रणवीर यादव एक ऐसा बाहुबली जिसने नितीश कुमार के सामने चलायी थी गोलिया और इनकी सबसे दिलचस्प बात येह है इनकी दोनों पत्निया राजनीती में होने के साथ साथ सगी बहने भी है एक पत्नी राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी ) एवं दूसरी पत्नी जनता दल यूनाइटेड ( जेडीयू ) से चुनाव लड़ चुकी है
रणवीर यादव १९८५ के लक्ष्मीपुर-तोफिर दियारा नरसंहार के बाद से सुर्ख़ियो में ए और तब से राजनीती में सक्रीय है खगड़िया दियारा दल होने की वजह से बिहार में इसे बाहुबलियों का गढ़ माना जाता है रणवीर यादव पहली बार १९९० में निर्दलीय विधायक बने थे इनका खगड़िया एवं इसके आस पास के इलाको में गहरा प्रभाव है इनकी पत्नीका दो बार विधायक बनने का कारण यह बताया जाता है की रणवीर यादव पहले लालू यादव के बहुत करीबी थे एवं नीतश कुमार से भी इन्होने अच्छे सम्बन्ध बनाए थे।

साल १९८५ में खगड़िया के तौफीर दियारा के नरंसहार हुआ इस मामले में रणवीर यादव को दोषी पाया गया था जिसमे नो लोगो की हत्या हुई थी जिसके लिए रणवीर यादव को उम्रकैद की सजा मिली थी जिसे वह जेल में काट चुके है। इसके अलावा ऐसे ही कई मामले रंगदारी , हत्या का प्रयास लोगो को धमकाने एवं ऐसे बहुत से मामले मामले रणवीर यादव के खिलाफ दर्ज है। जिन पर अभी तक कोई सुनवाई और कोर्ट से कोई फैसला नहीं आया है।

रणवीर यादव में सन २०१२ में नितीश कुमार की अधिकारी यात्रा के दौरान एक कार्यक्रम में शिक्षा के प्रदर्शन पर उनके सामने लहराई थी बन्दूक सरेआम फायरिंग कर प्रदर्शनकारियों को डराने की थी कोशिश। रणवीर यादव दियारा क्षेत्र में एक बाहुबली के नाम से जाना जाता है।