दुनियाभर में अपने बेहतरीन फीचर्स की वजह से पॉपुलर इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप WhatsApp को जबरदस्त झटका लगा है. दरअसल आयरलैंड में दूसरी फेसबुक कंपनियों के साथ पर्सनल डेटा शेयर करने के मामले में कंपनी पर 22.5 करोड़ यूरो यानि करीब 1,942 करोड़ रुपये का जुर्माना लगा है. कंपनी पर ये फाइन तीन साल पहले बने जनरल डेटा प्रोटेक्शन रेगूलेशन यानी GDPR के तहत लगाया गया है.

‘गलत लगाया गया जुर्माना’ 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक WhatsApp ने कहा कि जुर्माना पूरी तरह से गलत है और इसको लेकर कंपनी आगे तक जाएगी. कंपनी के एक प्रवक्ता ने इस मामले पर कहा है कि ऐप पूरी तरह से सेफ है और हम यूजर्स के डेटा की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध हैं. ये जुर्माना हमें किसी भी तरह स्वीकार्य नहीं है, हम आगे इसको लेकर अपील करेंगे.

इसलिए हुई कार्रवाई

दरअसल आयरलैंड में कॉर्पोरेट टैक्स कम है और यहां Google, Facebook, Apple, Twitter समेत कई बड़ी कंपनियों के ऑफिस हैं और इस देश के लिए ये कहा जाता है कि ये कंपनियों पर कार्रवाई नहीं करता है. WhatsApp पर भी शुरुआत में सिर्फ 433 करोड़ का जुर्माना लगाया गया था, लेकिन यूरोपीय संघ के देशों के प्रेशर की वजह से इसे कई गुना तक बढ़ा गया है.

भारत में 30 लाख WhatsApp अकाउंट हुए सस्पैंड

हाल ही में WhatsApp ने अपनी मासिक अनुपालन रिपोर्ट जारी की. जिसमें बताया गया कि 46 दिन की अवधि में कंपनी ने करीब 30 लाख WhatsApp अकाउंट सस्पैंड किए हैं. व्हाट्सऐप ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि उसे इस दौरान 594 कंप्लेंट्स मिलीं थी, जिन पर कंपनी ने कार्रवाई की है. इनमें से ज्यादा अकाउंट को ऑटोमैटिक या फिर बल्क मैसेज की वजह से सस्पैंड किए गए हैं.