मुंबई में कोविड-19 के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी तथा वानखेड़े स्टेडियम के 10 कर्मचारियों और प्रतियोगिता प्रबंधन से जुड़े छह सदस्यों के इस घातक वायरस से पॉजिटिव पाए जाने के बावजूद भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) ने अपनी उम्मीद नहीं छोड़ी है.

मुंबई में कोविड-19 के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी तथा वानखेड़े स्टेडियम के 10 कर्मचारियों और प्रतियोगिता प्रबंधन से जुड़े छह सदस्यों के इस घातक वायरस से पॉजिटिव पाए जाने के बावजूद भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) ने अपनी उम्मीद नहीं छोड़ी है. उसे 10 से 25 अप्रैल के बीच मुंबई में इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) मैचों के आयोजन की उम्मीद है.

कोरोवा वायरस की स्थिति यदि नियंत्रण से बाहर चली जाती है, तो फिर इंदौर और हैदराबाद को आईपीएल के ‘स्टैंड बाई’ स्थान के रूप में रखा गया है. मुंबई को इस धनाढ्य लीग के 10 मैचों की मेजबानी करनी है.

महाराष्ट्र में शुक्रवार को 47000 मामले दर्ज किए गए और वहां संभावित लॉकडाउन की स्थिति नजर आ रही है. इसके अलावा आयोजक वानखेड़े स्टेडियम के कर्मचारियों के कोविड-19 के लिए पॉजिटिव पाए जाने से भी चिंतित हैं.

यही नहीं, प्रतियोगिता प्रबंधन दल के छह सदस्यों का परीक्षण भी पॉजिटिव आया है और उन्हें भी पृथकवास पर भेज दिया गया है. मुंबई क्रिकेट संघ (MCA) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पीटीआई से कहा, ‘जहां तक मैदानकर्मियों की बात है, तो शुक्रवार तब 8 पॉजिटिव मामले थे. आज दो अन्य मामले पॉजिटिव पाए गए. इससे इनकी संख्या बढ़कर 10 हो गई. सभी को घर भेज दिया गया है और वे अलग-थलग रह रहे हैं.’

उन्होंने कहा, ‘हमने तैयारियों के लिए कांदिवली से मुंबई क्रिकेट संघ के दूसरे मैदानकर्मियों को ला रहे हैं. इसके अलावा बीसीसीआई के प्रतियोगिता प्रबंधन के छह से सात कर्मचारियों का परीक्षण पॉजिटिव आया है.’ इस बारे में, जब बीसीसीआई के एक वरिष्ठ पदाधिकारी से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि बोर्ड स्थिति से चिंतित है.

बोर्ड अधिकारी ने कहा, ‘देखिए, यदि लॉकडाउन होता है, तो टीमें जैव सुरक्षित वातावरण में हैं और वैसे भी दर्शकों को स्टेडियम में आने की अनुमति नहीं है. इसलिए हमें अब भी मुंबई में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार आईपीएल मैचों के आयोजन की उम्मीद है.’ उन्होंने कहा, ‘लेकिन यदि स्थिति आपे से बाहर चली आ जाती है, तो हैदराबाद और इंदौर को स्टैंड बाई रखा गया है.’