महाराष्ट्र में एंटीलिया मामले में रोजाना नए खुलासे हो रहे हैं. एनआईए को बीकेसी के पास मीठी नदी में जो गाड़ी का नंबर प्लेट मिला था उस गाड़ी के चोरी होने की लाइव सीसीटीवी फुटेज अब एबीपी न्यूज के हाथ लगी है. एनआईए को जांच के दौरान पता चला है कि यह गाड़ी भी वाजे के कहने पर चुराई गयी थी हालांकि अब तक इस से जुड़े सबूत एनआईए को नही मिले हैं.

इस गाड़ी के मालिक विजय नाड़े ने 17 नवंबर को अपने स्टेटमेंट में पुलिस को बताया था कि उन्होंने अपनी गाड़ी घर से नजदीक सड़क पर ही खड़ी की थी.  बाद में 16 तारीख की सुबह किसीने उनकी गाड़ी चुरा ली थी. सूत्रों की माने तो उस गाड़ी औरंगाबाद से चोरी करने के बाद उसे मुम्बई लाया गया था और जो कुछ स्कॉर्पियो में किया गया वह मारुति इको में करने की तैयारी थी.

एनआईए इस लाइन पर भी कर रही है काम

एनआईए के एक अधिकारी ने बताया कि उन्हें जानकारी मिली है कि वाझे एन्ड गैंग ने एंटीलिया के पास विस्फोटक खड़ी करने की प्लानिंग नवंबर 2020 में ही को थी और उसी प्लानिंग को अंजाम देने के लिए इस गाड़ी को चोरी किया गया था पर वाझे टीआरपी मामले की जांच में इतना उलझा हुआ था कि उस प्लानिंग पर अमल नही कर पाया.

एनआईए को यह भी पता चला कि ये लोग दो लोगों को इको गाड़ी से एंटीलिया के पास जिलिटीन के साथ गाड़ी खड़ी करने को बोलने वाले थे और फिर उनका फर्जी एनकाउंटर करने वाले थे ताकि इनका नाम हो जाये पर ऐसा कुछ नही हुआ. हालांकि अब तक एनआईए को इसके सबूत नहीं मिलेे हैं.

औरंगाबाद पुलिस की जांच भी सवालों के घेरे में

औरंगाबाद पुलिस भी नवंबर से ही इस मामले की जांच में जुटी थी पर उन्होंने कोई भी प्रोग्रेस नही दिखाया, यहां तक उन्होंने इस मामले में गाड़ी चोरी का फॉलोअप भी नही किया. आरोप है कि पुलिस ने बिना ठीक तरह से इन्वेस्टिगेशन के ही मामला भी बंद कर दिया था.