• जेलेना ओस्टापेंको ने शेड्यूल में बदलाव का हवाला देकर यूएस ओपन से हटने का फैसला लिया
  • वर्ल्ड नंबर-1 एश्ले बार्टी और डिफेंडिंग चैम्पियन बियांका एंद्रेस्कू पहले ही यूएस ओपन से हट चुकी हैं
  • यूएस ओपन इस साल 31 अगस्त से 13 सितंबर तक न्यूयॉर्क में खेला जाएगा
  • कोरोना के बीच इस साल यूएस ओपन 31 अगस्त से न्यूयॉर्क में खेला जाएगा। लेकिन टॉप रैंक खिलाड़ियों का इससे हटने का सिलसिला जारी है। अब 2017 की फ्रेंच ओपन चैम्पियन जेलेना ओस्टापेंको शेड्यूल में बदलाव का हवाला देकर टूर्नामेंट से हट गईं। अब तक टॉप-8 में से 6 महिला खिलाड़ी यूएस ओपन से नाम वापस ले चुकी हैं।

    इसमें वर्ल्ड नंबर-1 एश्ले बार्टी, रोमानिया की वर्ल्ड नंबर-2 सिमोना हालेप और वर्ल्ड नंबर-6 बियांका एंद्रेस्कू शामिल हैं। बियांका यूएस ओपन की डिंफेंडिंग चैम्पियन भी हैं। पिछले फाइनल में उन्होंने अमेरिका की सेरेना विलियम्स को 6-3, 7-5 से हराकर खिताब जीता था। इसके अलावा सोमवार को कार्ला सुआरेज ने भी टूर्नामेंट से अपना नाम वापस ले लिया।

    दो खिलाड़ियों के नाम वापस लेने के बाद कुरुमी नारा और व्हिटनी ओसिग्वे को टूर्नामेंट के मुख्य ड्रॉ में एंट्री मिल गई।

    फेडरर और नडाल भी यूएस ओपन में नहीं खेलेंगे

    महिलाओं के साथ ही पुरुष वर्ग में भी कई टॉप सीड खिलाड़ी यूएस ओपन से हट चुके हैं। इसमें डिफेंडिंग चैम्पियन स्पेन के राफेल नडाल और स्विटजरलैंड के वर्ल्ड नंबर-4 रोजर फेडरर शामिल हैं। फेडरर ने चोट के कारण टूर्नामेंट से हटने का फैसला किया है। नडाल यूएस ओपन के डिफेंडिंग चैम्पियन भी हैं। उन्होंने पिछली बार फाइनल में दानिल मेदवेदेव को हराकर चौथी बार खिताब जीता था। हालांकि, वर्ल्ड नंबर-1 सर्बिया के नोवाक जोकोविच टूर्नामेंट में खेलेंगे।

    जोकोविच ने 17 ग्रैंड स्लैम जीते
    जोकोविच ने इस साल की शुरुआत में रिकॉर्ड 8वीं बार ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब जीता था। सबसे ज्यादा ग्रैंड स्लैम जीतने के मामले में जोकोविच 17 खिताब के साथ तीसरे नंबर पर हैं। उन्होंने 8 ऑस्ट्रेलियन ओपन, 5 विंबलडन, 1 फ्रेंच ओपन और 3 यूएस ओपन जीता है। वर्ल्ड में रोजर फेडरर ने सबसे ज्यादा 20 ग्रैंड स्लैम जीते हैं। 19 खिताब के साथ राफेल नडार दूसरे नंबर पर हैं।

    विंबलडन रद्द, फ्रेंच ओपन भी टला
    साल का पहला ग्रैंड स्लैम ऑस्ट्रेलियन ओपन तो इस साल हो गया। लेकिन कोरोना के कारण फ्रेंच ओपन को टालना पड़ा। अब यह टूर्नामेंट 27 सितंबर से 11 अक्टूबर तक होगा। वहीं, इस साल जून में होने वाले विंबलडन को तो रद्द करना पड़ा। दूसरे वर्ल्ड वॉर के बाद पहली बार विंबलडन को रद्द हुआ।