अपने समाज में आपने कई अलग -अलग तरह की शादियां देखि होंगी आपने मगर ऐसे अनोखी शादी शायद ही देखा होगा जो मैं आपको सुनाने जा रहा हूँ……इसी समाज में ऐसे भी लोग होते है जो छोटे से अमाउंट के लिए शादी से इंकार कर देते या अपने जीजा की डिमांड न पूरी कर पाने के कारण शादी तोड़ देते है ….या तो ऐसा भी होता है की बारातियों की अच्छे से खातिरदारी न कर पाने के कारण मंडप से उठ चले जाते है.

लेकिन इसी समाज से एक ऐसी खबर आयी है जिससे आपको प्यार पर भरोसा हो जायेगा….ये खबर है उत्तर प्रदेश से प्रतापगढ़ की .प्रतापगढ़ की खबर ने इंसानियत और मोहब्बत की मिस्साल पेश किया है.जिसे लोग तारीफ करते नहीं थक रहे ….

हुआ यूँ की लड़की की होने वाली थी शादी . शादी से महज 8 घंटे पहले लड़की के साथ हो जाता है हादसा . हादसा मतलब की लड़की किसी छोटे बचे को बचाने के चककर में खुद गिर जाती है छत से …उसके बाद लड़की को कराया जाता है अस्पताल में भर्ती ……लड़की पूरी तरह से हो जाती है अपंग …बोहोत बुरा हुआ होगा न एकदम फिल्मो की तरह ….अचानक से……..
लड़की थी रहने वाली प्रतापगढ़ की कुंडा इलाके की नाम है आरती मौर्या . शादी पास के ही गांव में अवधेश से तय हुई थी .8 दिसंबर को आने वाली थी बारात . दोनों के घरों में सहनाईयें बज रही थी ….तभी दोपहर को लड़की के साथ ये हादसा घटित हो जाता है …डॉक्टरों ने जब यह बताया की लड़की अपंग हो गयी है और वह कई महीनो तक नहीं चल पाएगी ….सभी के होश उड़ गए की अब कौन करेगा इस लड़की से शादी …लड़की के .घरवाले को ये विस्वाश हो गया था लड़के वाले अब शादी तोड़ देंगे ..


लड़की के परिवार वाले ने अवधेश को ऑफर दिया की आरती की छोटी बहन से शादी कर लीजिये …लेकिन उसी वक़्त अवधेश के फैसले ने सबको चौंका दिया ….किसी को ऐसी उम्मीद नहीं थी की ऐस भी हो सकता है ….किसी ने कल्पना भी नहीं किया होगा की एक साधारण से घर का लड़का इतना बड़ा फैसला भी ले सकता है …अवधेश ने कहा चाहे किसी भी हालत में क्यों न हो पत्नी के तौर पर सिर्फ आरती को ही वो अपनाएगा …बल्कि ये भी कहा की शादी उसी दिन होगा और तय वक़्त पर होगा ….इसके बाद क्या था जैसा अवधेस ने चाहा सब उसके मुताबिक किया गया …अवधेश की ज़िद पर डॉक्टरों की टीम से परमिशन लेकर आरती को दो घंटे के लिए उस एम्बुलेंस से घर लाया गया और शादी की सारी रश्में पूरी की गयी ….ऑक्सीजन और ड्रिप लगी होने की सूरत में ही उसकी मांग भरी गयी ….आम दुल्हनों की तरह आरती की भी विदाई हुई मगर सभी लड़कियों की आरती ससुराल नही जा पायी ..सुनके थोड़ा फ़िल्मी लगता है….. जी हां आपने शायद आज से 15 साल पहले आयी आयी मूवी विवाह देखें हो ….उस मूवी में बिलकुल इस से मिलते जुलते कहानी दिखाई गयी है …… लेकिन कहानी और सचाई में सर आकाश ज़मीं का अंतर् होता है …अवदेश जैसे लड़के आज ज़माने में मिलना मुश्किल तो है मगर नामुमकिन नहीं …..