जर्नल ऑफ ट्रैवल मेडिसिन में प्रकाशित हुए शोध के अनुसार, कोविड -19 मुख्य रूप से अंतरराष्ट्रीय यात्रा के कारण ही भारतीय राज्यों में फैला है।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), मंडी द्वारा किए गए एक विश्लेषणात्मक अध्ययन के अनुसार, दुबई और यूके के यात्री भारत में कोविड -19 आयात के प्राथमिक स्रोत थे।

अध्ययन में यह भी पाया गया है कि तमिलनाडु, दिल्ली और आंध्र प्रदेश से संक्रमित मामलों ने अपने समुदायों के बाहर बीमारी फैलाने में कम भूमिका निभाई। जबकि गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र, केरल, जम्मू और कश्मीर और कर्नाटक में संक्रमित लोगों ने स्थानीय प्रसारण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई और उनमें से कुछ ने अंतर्राज्यीय स्थानांतरण भी किया।

“हमने कोविड -19 के प्रसार और वैश्विक से राष्ट्रीय स्तर तक इसके प्रसार को ट्रैक किया और कुछ सुपर स्प्रेडर्स की पहचान की जिन्होंने भारत में बीमारी के संचरण में केंद्रीय भूमिका निभाई। चरण एक में फैले कोविड -19 के रोगियों की यात्रा इतिहास का पता लगाया गया, और यह पाया गया कि अधिकांश प्रसारण स्थानीय ही थे, “सरिता आजाद, सहायक प्रोफेसर, आईआईटी मंडी, ने पीटीआई को बताया।

“अनुसंधान दल ने जनवरी से अप्रैल तक संक्रमित रोगियों की यात्रा इतिहास का उपयोग प्राथमिक डेटा स्रोत के रूप में किया और एक सामाजिक नेटवर्क द्वारा इस महामारी के फैल का चित्रण किया गया। उन्होंने यह भी कहा की शोध के मुताबिक़ दुबई (144) और यूके (64) से अधिकतम संख्या में कनेक्शन स्थापित किए गए थे।