पश्चिम बंगाल के उलूबेरिया नॉर्थ से आज तृणमूल कांग्रेस के नेता गौतम घोष के घर से ईवीएम और वीवीपीएटी बरामद हुई हैं. इस मामले में बीजेपी अब टीएमसी पर हमलावर है. बीजेपी ने टीएमसी पर चुनावों में धांधली का आरोप लगाया है. बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने तंज कसते हुए पूछा है कि विपक्ष एक तरफ ईवीएम पर सवाल उठाता है वहीं दूसरी तरफ ईवीएम को घर में रखता है.

टीएमसी बदमाशी करके जीतने की कोशिश कर रही- दिलीप

दिलीप घोष ने कहा है कि टीएमसी जानती है कि अब वह चुनाव में हार चुकी है. इसलिए अब वह बदमाशी करके जीतने की कोशिश कर रही है. यह आज की नहीं है, यह पुरानी चीज है. पंचायत चुनाव के समय नई टाउन से भी ये लोग EVM बॉक्स ले गए थे. बैलट बॉक्स हूगली में फेक दिय गया था. यह सब घटना चुनाव के समय घटती ही हैं. हमें इन सब चीज़ो को बदलने में वक़्त लगेगा.

ममता बनर्जी की चोट पर चुटकी लेते हुए घोष ने कहा, ‘’ममता बनर्जी तो अभी सब पर ही गुस्सा हैं. मैं बोलता था कि वो अपने खुद के शरीर पर विश्वास नहीं कर पा रही हैं. और देखिये उनका पैर उनको धोखा दे दिया. इतने दिनों तक पुलिस से सारा काम करवाया गया. पुलिस समझ रही है कि उन लोगों ने बहुत अपराध किए हैं और अब परिवर्तन हो रहा है. इलेक्शन कमिशन ने अंतर्गत निष्पक्ष काम हो रहा है.’’

असम में बीजेपी उम्मीदवार की पत्नी की कार से मिली थी ईवीएम

बता दें कि इससे पहले असम से भी एक ऐसा ही मामला सामने आ चुका है, जहां बीजेपी प्रत्याशी की पत्नी की कार से EVM ले जाने पर हंगामा हो गया था. इस मामले की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं. करीमगंज जिला उप अधीक्षक अनबामुथन एमपी ने मामले की जांच के लिए शुक्रवार रात आदेश जारी किए थे.

अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट राजेशन तेरांग को जांच करके तीन दिन में विस्तृत रिपोर्ट देने को कहा था. आदेश में कहा गया था, “इस घटना ने मतदान वाली ईवीएम की सुरक्षा को खतरा पैदा किया है और कानून व्यवस्था की स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है.”

जांच में यह भी पता लगाया जाएगा कि किन परिस्थितयों में मतदान पार्टी ने निजी वाहन में यात्रा की और इस बात का भी पता लगाया जाएगा कि अधिकारियों की ओर से कहीं कोई चूक थी या कोई साजिश.  घटना के बाद चुनाव आयोग ने चार चुनाव अधिकारियों को निलंबित कर दिया और केन्द्र पर दोबारा मतदान कराने के आदेश दिए हैं. केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी आयोग से जांच करने को कहा है. इसबीच पुलिस ने घटना के बाद हुई हिंसा को दिखाने के आरोप में कम से कम छह लोगों को गिरफ्तार किया है.