बंगाल की खाड़ी में उठ चक्रवाती तूफान यास का उत्पात पश्चिम बंगाल और ओडिशा में जारी है। तो वहीं, चक्रवाती तूफान यास को देखते हुए मौसम विभाग ने पूर्वी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश का अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के अलर्ट के बाद जिला प्रशासन ने आमजन को सतर्कता बरतने के साथ ही घरों से बाहर नहीं निकलने की अपील की है।

दरअसल, अलर्ट जारी करते हुए लखनऊ के आंचलिक मौसम विज्ञान केंद्र के वैज्ञानिकों ने कहा है कि चक्रवाती तूफ़ान यास का असर गुरुवार से पूर्वांचल के जिलों में दिखेगा। मौसम निदेशक जेपी गुप्ता की मानें तो 27 और 28 मई को प्रदेश के पूर्वी हिस्से में भारी से भारी बारिश हो सकती है।

इसमें पूर्वांचल के साथ-साथ तराई के भी कई जिले शामिल हैं। बारिश के साथ-साथ इन जिलों में 40 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा के चलने का भी अंदेशा जाहिर किया गया है।

मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक, 27 मई की सुबह से लेकर 28 मई की सुबह तक कुशीनगर, गोरखपुर, देवरिया, बलिया, मऊ और गाजीपुर में भारी से बहुत भारी बारिश हो सकती है। इन जिलों में 50 से 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने का भी अनुमान है। तो वहीं, सिद्धार्थ नगर, बस्ती, महाराजगंज, अंबेडकर नगर, जौनपुर, आजमगढ़, वाराणसी, भदोही, चंदौली, मिर्जापुर और सोनभद्र में हल्की से भारी बारिश का अनुमान लगाया गया है।

इन जिलों में किया ऑरेंज अलर्ट जारी 28 मई की सुबह से लेकर 29 मई की सुबह तक जिन जिलों में भारी से बहुत भारी बारिश का ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है वे जिले हैं श्रावस्ती, बलरामपुर, गोंडा, सिद्धार्थ नगर, संत कबीर नगर, महाराजगंज, कुशीनगर, गोरखपुर, देवरिया, बलिया, अंबेडकर नगर, आजमगढ़ और मऊ। इसके अलावा इसी दिन बस्ती, अयोध्या, सुल्तानपुर और जौनपुर में हल्की से भारी बारिश का अनुमान है।

प्रशासन अलर्ट मोड पर, निगरानी का निर्देश

मौसम विभाग के अलर्ट के बाद जिला प्रशासन ने आम लोगों के लिए एडवाइजरी जारी की है। इसके साथ ही एडीएम वित्त व राजस्व तथा आपदा प्रभारी ने लेखपाल, कानूनगो, सेकेट्ररी को अपने-अपने गांवों में लगातार निगरानी का निर्देश दिया है। एसडीएम व बीडीओ को भी लगातार निगरानी करने के लिए कहा है।