रूस का ये शहर पृथ्वी पर सबसे ज्यादा ठंडा शहर माना जाता है, यहां गाड़ियों की ईंजन केवल गर्मियों में बंद होती हैंमनुष्य के पास पृथ्वी पर सबसे ज्यादा वातावरण के अनुकूल होने की एक आश्चर्यजनक क्षमता है। हालाँकि, दुनिया में बहुत सारी जगहें हैं जहाँ बदलते मौसम की अवधारणा मौजूद नहीं है। ऐसा ही एक छोटा सा शहर है जो उत्तरपूर्वी रूस में स्थित है जिसे Oymyakon नाम से जाना जाता है।

यह व्यापक रूप से पृथ्वी पर सबसे ठंडा बसे हुए शहर के रूप में माना जाता है। सर्दियों के महीनों के दौरान यहां का तापमान शून्य से 58 ° F (यानी माइनस 50 डिग्री सेल्सियस) के आसपास रहता है।

Oymyakon, रूस का लगभग 500 की आबादी वाला एक छोटा गांव है। Oymyakon और Verkhoyansk दुनिया में केवल दो स्थायी रूप से बसे हुए स्थान हैं, जहां -50.0 डिग्री सेल्सियस से नीचे तापमान दर्ज किया गया है।

Oymyakon ने अक्टूबर और मार्च के बीच कभी भी ज्यादा ठंड नहीं दर्ज की है। ओम्याकॉन में सर्दियां लंबी और बेहद ठंडी होती हैं। ग्रीष्मकाल में मौसम हल्का गर्म होता है। मौसम विभाग के अनुसार अभी तक का सबसे गर्म महीना जुलाई 2010 को माना गया है। क्योंकि अभी तक का सबसे गर्म तापमान +18.7 डिग्री सेल्सियस है।

कठोर जलवायु के बावजूद लोग घाटी में रहते हैं। सर्दियों का सामना करने के लिए बच्चों को यहाँ के तापमान के अनुसार प्रशिक्षित किया जाता है। यहां के बच्चे माइनस 50 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर स्कूल जाते हैं।

ओम्याकॉन का सबसे कम रिकॉर्ड तापमान 1924 में एक माइनस 71.2 सेल्सियस (माइनस 96.16 फ़ारेनहाइट) था। 28 जुलाई 2010 को, ओम्याकॉन ने 34.6 डिग्री सेल्सियस का रिकॉर्ड उच्च तापमान पर दर्ज किया था।

सर्दियों के दौरान, अत्यधिक ठंड के कारण इस शहर में कोई भी फसल नहीं उगाई जाती है। लोग ज्यादातर विभिन्न प्रकार के मांस पर निर्भर रहते हैं।

लोग अपने वाहनों के इंजन को 24/7 चलाते हैं यानी यहां गाड़ियां कभी बंद नहीं होती और जिंदा रहने के लिए भारी मांस उत्पादों का सेवन किया जाता है। Oymyakon और Verkhoyansk को ठंड का उत्तरी ध्रुव माना जाता है। यहां जमीन स्थायी रूप से जमी हुई है।