व जिहाद (Love Jihad) का शिकार बनीं निकिता तोमर (Nikita Tomar) के हत्यारों को फांसी देने की मांग उठ रही है. पूरे देश में इस घटना को लेकर गुस्सा है और हर तरफ बस यही सवाल पूछा जा रहा है कि आखिर हिंदुओं के धैर्य की परीक्षा कब तक ली जाएगी? निकिता को फरीदाबाद से सटे बल्लभगढ़ में तौसीफ नाम के युवक ने बीच सड़क पर गोली मारी थी. हरियाणा की बेटी निकिता को इंसाफ दिलाने के लिए जगह-जगह प्रदर्शन हो रहे हैं.

बड़े-बड़े नेताओं तक पहुंच
गुस्साए परिजनों और प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली-मथुरा नेशनल हाइवे को जाम कर दिया था. वहीं मृतक लड़की के भाई नवीन तोमर का कहना है कि हत्या का आरोपी तौसीफ कांग्रेस (Congress) विधायक आफताब अहमद का भतीजा है. ये रसूखदार लोग हैं, उनकी कांग्रेस के बड़े-बड़े नेताओं सतक पहुंच है. निकिता के भाई ने कहा कि दो साल पहले भी उसने मेरी बहन को परेशान करने की कोशिश की थी, पुलिस में शिकायत भी हुई लेकिन ये रसूखदार लोग हैं, हम डर गए और पंचायत के सामने समझौता कर लिया. निकिता के परिवार ने इंसाफ के लिए योगी मॉडल को अपनाने की बात कही है.

लव जेहाद ने पहले भी देश में कई हिंदू बेटियों की जान ली है और अब बल्लभगढ़ की होनहार छात्रा निकिता तोमर भी मज़हबी षडयंत्र का शिकार बनीं. तौसीफ ने धर्म बदलने और शादी करने से इनकार करने पर निकिता की दिन दहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी. पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन रसूखदार होने के चलते उन्हें कितनी सजा होगी इस पर लोगों को संशय है.