इसरायली दूतावास के बाहर हुए हमले के बाद एक लिफाफा मिला है.लिफाफा ने दहशतगर्दों के मंसूबों की ओर इशारा दिया है.लिफाफा में साफ़ लिखा है की ये तो बस ट्रेलर है.आगे आगे देखो होता क्या है.इस पत्र में कहा गया है कि इरानी सैन्य कमांडर सुलेमानी और ईरान के न्यूक्लियर साइंटिस्ट मोहसिन फखरजादेह की हत्या का बदला लिया जाएगा.

सूत्रों के हवाले से खबर निकल कर आ रही की इजरायल की खुफिया एजेंसी मोसाद भी शामिल हो सकती है.

जैश-उल हिंद नाम के संगठन ने ली जिम्मेदारी

इजरायली दूतावास के बाहर IED ब्लास्ट की जिम्मेदारी जैश-उल हिंद नाम के संगठन ने ली है. इस संगठन ने दावा किया है कि उसने ही इजरायली दूतावास के सामने धमाका करवाया है. देश की खुफिया एजेंसियां इस दावे की सत्यता की जांच कर रही है.

धमाके के बाद इसरायली दूतावास की सुरक्षा बढ़ा दी गयी है.

खुफिया एजेंसियों ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टेलिग्राम पर एक चैट पाया है.