सुशांत सिंह राजपूत अपनी उच्च शिक्षा के लिए 2001 में बिहार से राजधानी दिल्ली आ गए थे। उन्होंने कुलाची हंसराज मॉडल स्कूल में प्रवेश लिया और वहां उनके कुछ अच्छे दोस्त बने। उनमें से एक नव्या जिंदल भी हैं, जिन्होंने पुराने दिनों को याद करते हुए दिवंगत अभिनेता के बारे में एक अजीब किस्सा साझा किया।

नव्या ने आईएएनएस को बताया, “सुशांत और मैं 11वीं क्लास के पहले दिन मिले थे। हम दोनों ही दिल्लीवासी नहीं थे, शायद इसीलिए पहले ही दिन हमारी अच्छी दोस्ती हो गई। मुझे याद है कि हमने अपना परिचय दिया और फिर एक साथ बैठे। जल्द ही हम बिना रुके ढेर सारी बातें कर रहे थे। इसी बीच सुशांत ने एक मजेदार जोक सुनाया कि हम सब हंसने लगे। जाहिर है, टीचर ने हमें देख लिया और हम सबको क्लास के बाहर कान पकड़कर खड़ा कर दिया।”

कूपर अस्पताल के स्टाफ का दावा: ‘सुशांत के पैर-गले पर थे सूईयों के निशान, डॉक्टर्स ने कहा था मर्डर है’

नव्या ने आगे कहा, “कल्पना करें कि स्कूल में पहले ही दिन हमें सजा मिली, मैं वह दिन कभी नहीं भूल सकती। इसके बाद भी मैं और सुशांत हंस रहे थे।” नव्या ने यह भी खुलासा किया कि स्कूल की एक शिक्षक सुशांत को ‘कैसेनोवा’ (इश्कबाज) कहती थीं।