सुशांत सिंह राजपूत केस में मुंबई पुलिस और बिहार पुलिस की जांच को लेकर विवाद जारी है। मामले में केंद्रीय जांच ब्यूरो से जांच की मांग को लेकर बॉम्बे हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी लेकिन मुंबई में बारिश की वजह से सुनवाई नहीं हो पाई।मुंबई में भारी बारिश हो रही है। इस वजह से सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले को सीबीआई को ट्रांसफर करने की मांग वाली जनहित याचिका पर सुनवाई स्थगित कर दी गई। भारी बारिश की वजह से बॉम्बे हाईकोर्ट का कामकाज आज बंद हो गया और सभी मामलों की सुनवाई अब कल होगी।इससे पहले मुंबई पुलिस के प्रमुख परमबीर सिंह ने इस मामले में सोमवार को बताया था कि सुशांत सिंह राजपूत मौत के समय बाइपोलर बीमारी से ग्रस्त थे। सुशांत पूर्व मैनेजर दिशा सालियान के साथ नाम जोड़े जाने को लेकर परेशान थे। मुंबई पुलिस ने बताया कि अभी तक 56 लोगों के बयान दर्ज किए हैं।

वहीं बिहार डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने मुंबई पुलिस पर सहयोग नहीं करने का आरोप लगाया है। गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि ‘दिशा सालियान के नाम से ही मुंबई पुलिस भड़क जाती है। ऐसे कैसे फाइल डिलीट हो जाती है। दिशा के नाम से ही ये लोग सकपका जाते हैं, हमें रिपोर्ट्स तक नहीं देते हैं। हमें परेशान कर रहे हैं, न काम करने दे रहे हैं और न ही मदद कर रहे हैं।’ बता दें कि सुशांत के निधन से कुछ दिन पहले ही दिशा ने एक बिल्डिंग से छलांग लगाकर खुदकुशी कर ली थी। इस मामले में जब बिहार पुलिस की टीम मुंबई पुलिस के पास पहुंची तो उन्हें बताया गया कि दिशा सालियान की फाइल गलती से डिलीट हो गई।

इस मामले में नया खुलासा तब हुआ जब सुशांत के दोस्त सिद्धार्थ पिठानी ने जीजा ओपी सिंह की ओर से कथित तौर पर मिले व्हाट्सएप मैसेज को साझा किया है। सिद्धार्थ ने जो मैसेज साझा किया उसके मुताबिक सुशांत अपने परिवार से संपर्क में नहीं थे। यही नहीं उनके जीजा ने यहां तक मैसेज किया था कि ‘अपनी समस्याओं से मेरी बहन को दूर रखो।’