आइसक्रीम के सैंपल में कोरोनावायरस मिलने के बाद कॉन्ट्रैक्ट ट्रेसिंग की जा रही है. एंटी-एपिडेमिक अधिकारी कंपनी के उत्पादों को सील करने की कार्रवाई सुनिश्चित कर रहे हैं.

पूरी दुनिया कोरोनावायरस महामारी के कहर से गुजर रही है. विश्व में लगभग 9 करोड़ से ज्यादा लोग संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं. कोरोनावायरस की वैक्सीन आने के बाद महामारी से निजात मिलने की उम्मीद जगी है. हालांकि चीन में पहला मामला सामने आने के बाद से वायरस से जुड़े नए-नए खुलासे होने से वैज्ञानिक भी हैरान हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक अब उत्तरी चीन के तियानजिन शहर में आइसक्रीम में कोरोनावायरस मिला है.

एंटी-एपिडेमिक अधिकारी कंपनी के उत्पादों को सील करने की कार्रवाई सुनिश्चित कर रहे हैं. एक वायरोलॉजिस्ट ने बताया कि आइसक्रीम का पॉजिटिव टेस्ट इंसान के संपर्क के कारण और एकबारगी हो सकता है. डॉक्टर स्टीफेन ग्रिफिन ने स्काई न्यूज को बताया कि पैनिक होने की कोई आशंका नहीं है.

आपको बता दे की चीन की सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, प्रारंभिक जांच में पता चला है कि कंपनी ने विदेश से मंगाए गए कच्चे माल का इस्तेमाल करके आइसक्रीम का उत्पादन किया है. मिल्क पाउडर न्यूजीलैंड और वे पाउडर यूक्रेन से आयात किया गया था. रिपोर्ट में कहा गया कि कंपनी के 1,600 से ज्यादा कर्मचारियों को क्ववारंटीन किया गया.