जागरण संवाददाता, कैथल/हिसार। ऑडी ब्रांड के टाप मॉडल की 20 कारों की कीमत वाला हरियाणा के कैथल जिले का सुल्‍तान झोटा अब इस दुनिया में नहीं रहा। सुल्‍तान की एक मेले में करीब 21 करोड़ रुपये कीमत लगी थी मगर मालिक नरेश ने उसे बेचने से इनकार कर दिया था। सुल्‍तान को मालिक अपने बच्‍चों से भी ज्‍यादा प्‍यार करता था। अब उसके चले जाने से मालिक नरेश बेहद दुखी हैं। सुल्‍तान का दिल का दौरा पड़ने से 14 साल की उम्र में निधन हो गया। घर में मातम पसरा हुआ है, मालिक नरेश कभी खूंटे तो कभी सुल्‍तान की तस्‍वीर को निहारते रहते हैं।

इतना दुख तो इंसान के जाने पर भी नहीं होता

मालिक नरेश ने कहा कि कैथल के बुढ़ाखेड़ा गांव को पहले कोई नहीं जानता था मगर जब से सुल्‍तान इस गांव में आया तब से गांव की पहचान बन गई। सुल्‍तान केवल हरियाणा पंजाब के ही नहीं बल्कि देशभर के पशु मेले में गया और वहां पर चैंपियन बनकर लौटा। उसकी खूबसूरती का कोई जवाब नहीं था। उसने मुझे देशभर में फेमस कर दिया। उसके अहसान को मैं जिंदगी भर नहीं चुका सकता। भरे गले से मालिक नरेश ने कहा कि इतना दुख तो तब भी नहीं होता जब कोई इंसान दुनिया से चला जाता है मगर सुल्‍तान के जाने से मेरी दुनिया ही अधूरी हो गई।

10 किलो दूध, 15 किलो सेब, ड्राई फ्रूट थी रोज की खुराक

सुल्‍तान बेहद लग्‍जरी लाइफ जीता था, सुल्‍तान रोज दस किलो दूध पीता था तो करीब 15 किलो सेब खाता था। सर्दियों में दस किलो गाजर रोजाना खाता था। इसके अलावा ड्राई फ्रूट और अन्‍य तरह के उत्‍पाद उसके लिए स्‍पेशल तैयार किए जाते थे। केले और घी की खुराक उसके लिए अलग से थी। सुल्‍तान की रोजाना की खुराक का खर्चा करीब 2000 से ज्‍यादा था। किसी किसी दिन 3 से 4 हजार रुपये तक खर्च किए जाते थे।

विस्‍की का भी शौकीन था सुल्‍तान

सुल्‍तान करीब छह फीट ऊंचा था तो उसका वजन डेढ़ टन था। 2013 में वह चैंपियन बना था। देशभर में उसके सीमन की मांग थी और करीब एक डोज ही 310 रुपये में बिकती थी। सुल्‍तान करीब हर साल मालिक को एक करोड रुपये कमाकर देता था। सुल्‍तान की एक मेले में अफ्रीका के एक किसान ने 21 करोड़ रुपये कीमत लगाई थी मगर मालिक नरेश ने देने से इनकार कर दिया। मालिक नरेश का कहना है कि सुल्‍तान जैसा कोई नहीं हो सकता। बता दें कि सुल्‍तान विस्‍की पीने का भी शौकीन था।

म्‍यूजिक एलबम में भी काम कर चुका सुल्‍तान

सुल्‍तान की खूबसूरती के सभी मुरीद थे। चमकता शरीर और काले सींग देखकर हर कोई दांतो तले ऊंगली दबा लेता था। यही कारण है कि सुल्‍तान को एक म्‍यूजिक एलबम में भी काम दिया गया। सुल्‍तान मुर्राह नस्‍ल का झोटा था और उसके सीमन से कई क्‍लोन भी तैयार किए गए मगर सुल्‍तान जैसा कोई नहीं हो सका। मालिक नरेश ने बताया कि सुल्‍ताना को नहला दुहला कर बांधा था मगर वह मृत अवस्‍था में मिला। पता चला कि दिल का दौरा पड़ने से उसकी मौत हो गई। मालिक नरेश ने कहा कि कोशिश करेंगे सुल्‍तान की नस्‍ल का कोई और झोटा मिले और उसे तैयार किया जा सके।