फिल्म स्टार सोनू सूद चर्चा में बने हुए हैं. किसी के नम आंखों में खुशियों की चमक पैदा करने वाले सोनू सूद को करनाल स्थित विर्क हॉस्पिटल के युवा न्यूरो सर्जन डॉक्टर अश्वनी का भरपूर सहयोग मिल रहा है. सोनू सूद की बदौलत पिछले 12 सालों से जिंदगी से जंग लड़ रहे छत्तीसगढ़ के अमन को नई जिंदगी मिली.

सोनू सूद ने की मदद 
रीढ़ की हड्डी की गम्भीर बीमारी के चलते अमन पिछले 12 वर्षों से बिस्तर पर थे. अमन के पिता किराए के मकान में रहते हैं और किराए का ऑटो चलाते हैं. पैसे की किल्लत और महंगे इलाज के कारण अपने जवान बेटे को तड़पते हुए देखने के अलावा इन दोनों के पास कोई चारा न था, लेकिन अमन ने बिस्तर पर लेटे हुए एक कोशिश की जिसके चलते अब अमन जल्द ही अपने पैरों पर खड़ा हो सकेगा. अमन के माता पिता सोनू सूद और डॉक्टर अश्वनी की तारीफ करते नहीं थकते क्योंकि इन दोनों की बदौलत ही तो अमन से जुड़े उनके सपने सब हकीकत में बदलेंगे.

सोनू सूद ने कराई सर्जरी 

अमन का सोनू सूद के माध्यम से करनाल के विर्क हॉस्पिटल में न्यूरो सर्जन डॉक्टर अश्वनी की देख रेख में इलाज हुआ, अमन के मुंह के रास्ते रीढ़ की हड्डी की सर्जरी हुई जो कई घंटे चली. लेकिन अब अमन की मुस्कुराहट खुद उसका भविष्य बता रही है. अमन को नई जिंदगी देने वाले डॉक्टर अश्वनी अब तक करीब 1 हजार सिर ओर रीढ़ की हड्डी की सर्जरी कर चुके है. खुद को भाग्यशाली मानते हैं कि सोनू सूद के कारण उन्हें ऐसे लोगों की मदद का मौका मिला जिन्हें मदद की सख्त जरूरत थी.

बता दें कि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए मार्च में देशभर में लॉकडाउन लागू किया था. इसके बाद कई लोगों को सामने खाने का संकट उत्पन्न हो गया था. इस दौरान सोनू सूद मसीहा बनकर सामने आए थे. सोनू सूद ने सोशल मीडिया से मिली जानकारी के बाद लोगों की मदद की थी.