आपके लिए सबसे जरूरी ‘Rule of 72’ को जानना है. भविष्य की किसी भी तरह की निवेश योजना से पहले इसका पालन न्यूटन के लॉ की तरह अटल है. इस विधि में हम जिस भी योजना में निवेश करना चाहते हैं उस पर मिलने वाले ब्याज को 72 से भाग दे देते हैं. इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि आपका पैसा कितने समय में दोगुना होगा.

अक्सर लोग बैंक खातों में ही अपनी जमा को पड़ा रहने देते हैं. लेकिन वो भूल जाते हैं कि बचत खातों पर 4% सालाना ही ब्याज मिलता है. अब अगर इस पर ‘Rule of 72’ लगाएं तो आपके निवेश को करीब-करीब 18 साल लगेंगे दोगुना होने में.

अभी देशभर में विभिन्न बैंकों के FD पर करीब 5% वार्षिक का ब्याज मिलता है. ‘Rule of 72’ के हिसाब से इस विकल्प में निवेश करने का भी बहुत ज्यादा फायदा नहीं है क्योंकि इससे आपका पैसा करीब 14.5 साल में डबल होगा.

लघु बचत योजनाओं में सबसे अधिक लोकप्रिय पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीफ) स्कीम और सबसे अधिक ब्याज देने वाली स्कीम सुकन्या समृद्धि योजना है. पीपीएफ पर सरकार अभी 7.1% का ब्याज देती है, जबकि सुकन्या समृद्धि योजना पर 7.6% का. ‘Rule of 72’ के हिसाब से इन योजनाओं में निवेश करने पर क्रमश: 10.14 साल और 9.4 साल में पैसा डबल होगा.

इसी तरह सरकार की दो बांड योजना किसान विकास पत्र (KVP) और राष्ट्रीय बचत पत्र (NSC) भी क्रमश: 6.9% और 6.8% ब्याज का भुगतान करती हैं. इनमें निवेश से ‘Rule of 72’ के अनुसार क्रमश: 10.4 साल और 10.5 साल में आपका पैसा डबल होगा.

अगर आप बॉन्ड बाजार में निवेश करने वाले म्यूचुअल फंड लेते हैं.बॉन्ड की बात इसलिए क्योंकि ये निवेश के सुरक्षित विकल्प माने जाते हैं. तो इन पर औसत 6.6% का सालाना रिटर्न मिलता है. इस तरह ‘Rule of 72’ के हिसाब से इन योजनाओं में आपका पैसा करीब 10.7 साल में दोगुना होगा.