Saral Pension Yojana: 1 अप्रैल 2021 से सरल पेंशन योजना की शुरुआत हो चुकी है. इंश्योरेंस रेगुलेटर IRDAI ने सभी बीमा कंपनियों को एक स्टैंडर्ड एन्यूटी प्रोडक्ट लाने के लिए कहा था. जिसकी नियम और शर्तें एकसमान, साफ और आसान हों. अब ये प्रोडक्ट बाजार में आ चुका है.

नई दिल्ली: Saral Pension Yojana: 1 अप्रैल 2021 से सरल पेंशन योजना की शुरुआत हो चुकी है. इंश्योरेंस रेगुलेटर IRDAI ने सभी बीमा कंपनियों को एक स्टैंडर्ड एन्यूटी प्रोडक्ट लाने के लिए कहा था. जिसकी नियम और शर्तें एकसमान, साफ और आसान हों. अब ये प्रोडक्ट बाजार में आ चुका है. ये सरल पेंशन प्लान क्या है, और क्यों आपको इसे लेना चाहिए ये हम आपको बताने जा रहे हैं.

दरअसल, बीमा कंपनियां बीमा पॉलिसियों और पेंशन प्लान को अलग-अलग नामों से बेचती हैं. एक आम व्यक्ति इनकी अलग अलग कठिन शर्तों को समझ नहीं पाता, और मिससेलिंग का शिकार भी हो जाता है. इसलिए IRDAI ने एक ऐसा प्रोडक्ट लाने की सोची जिसके नियम, फीचर्स और फायदे हमेशा एक होंगे, चाहे वो कोई भी कंपनी बेचे. इसे ही सरल पेंशन योजना कहा गया है. हालांकि बीमा कंपनियां प्रीमियम अलग अलग चार्ज कर सकती है.

क्या है सरल पेंशन योजना

ये एक सिंगल प्रीमियम पेंशन प्लान है, यानी पॉलिसी लेते समय ही सिर्फ एक बार प्रीमियम भरना होगा, पूरी जिंदगी आपको पेंशन मिलती रहेगी. अगर पॉलिसीधारक की मृत्यु हो जाती है तो उसके नॉमिनी को सिंगल प्रीमियम की राशी लौटा दी जाती है. सरल पेंशन योजना एक इमीडिएट एन्यूटी प्लान है, यानी पॉलिसी लेते ही आपको पेंशन मिलना शुरू हो जाता है. इस पॉलिसी को लेने के बाद जितना पेंशन से शुरुआत होती है, उतनी ही पेंशन पूरी जिंदगी मिलती है.

इस पेंशन योजना को लेने के दो तरीके हैं 

सिंगल लाइफ- इसमें पॉलिसी किसी एक के नाम पर रहेगी, जबतक पेंशनधारी जिंदा रहेंगे उन्हें पेंश मिलती रहेगी, उसकी मृत्यु के बाद बेस प्रीमियम की रकम उसके नॉमिनी को लौटा दी जाएगी.
ज्वाइंट लाइफ – इसमें दोनों जीवनसाथी की कवरेज होती है. जबतक प्राइमरी पेंशनधारी जीवित रहेंगे, उन्हें पेंशन मिलती रहेगी. उनकी मृत्यु के बाद उनके जीवनसाथी को जीवनभर पेंशन मिलती रहेगी, उनकी मृत्यु के बाद बेस प्रीमियम की राशि उनके नॉमिनी को सौंप दी जाएगी.

कौन ले सकता है सरल पेंशन योजना 

इस योजना का हिस्सा बनने के लिए न्यूनतम आयु सीमा 40 साल है और अधिकतम 80 साल है. चूंकि ये एक होल लाइफ पॉलिसी है तो इसमें पेंशन पूरी जिंदगी मिलती है, जबतक कि पेंशनधारी जीवित है. सरल पेंशन पॉलिसी को शुरू होने की तारीख से छह महीने बाद कभी भी सरेंडर की जा सकती है.

पेंशन कब मिलेगी

पेंशन कब मिलेगी, ये पेंशन लेने वाले को ही तय करना है. इसमें आपको 4 विकल्प मिलते हैं. आप पेंशन हर महीने ले सकते हैं, हर तीन महीने में ले सकते हैं, हर 6 महीने में ले सकते है या फिर 12 महीने में ले सकते हैं. आप जो विकल्प चुनेंगे, आपकी पेंशन उतनी अवधि में आने लगेगी.

कितनी मिलेगी पेंशन

अब सवाल उठता है कि इस सरल पेंशन योजना के लिए आपको कितना पैसा देना होगा, तो हम आपको बता दें कि ये आपको खुद चुनना होगा. यानी जितने भी अमाउंट की पेंशन आप चुनेंगे, आपको उस हिसाब से पेमेंट करना होगा. अगर आप हर महीने पेंशन चाहते हैं तो कम से कम 1000 रुपये पेंशन लेनी होगी, तीन महीने की 3000 रुपये, 6 महीने की 6000 रुपये और 12 महीने की 12000 रुपये न्यूनतम पेंशन लेनी होगी. अधिकतम की कोई सीमा नहीं है.

लोन भी ले सकते हैं 

अगर आपको कोई गंभीर बीमारी होती है और इलाज के लिए पैसे चाहिए तो सरल पेंशन योजना में जमा पैसे को वापस ले सकते हैं. आपको गंभीर बीमारियों की लिस्ट दी जाती है, जिसके लिए आप पैसे निकाल सकते हैं. पॉलिसी को सरेंडर करने पर बेस प्राइस का 95 परसेंट हिस्सा वापस कर दिया जाता है. इस योजना (saral pension plan) के तहत लोन लेने का भी विकल्प दिया जाता है. योजना शुरू होने के 6 महीने बाद आप लोन के लिए अप्लाई कर सकते हैं.