मुंबई । शिवसेना (Shiv Sena) ने फैसला किया है कि वह पश्चिम बंगाल में चुनाव (West Bengal assembly elections) नही लड़ेगी। शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने एक ट्वीट में बताया कि पार्टी अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के साथ चर्चा के बाद ये अहम निर्णय लिया गया है। पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) को बंगाल की शेरनी (Real Bengal Tigress) बताते हुए संजय राउत ने लिखा है शिवसेना एकजुटता से उनके साथ खड़ी है।

शिवसेना नेता संजय राउत ने ट्वीट में लिखा है कि शिवसेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के साथ इस मामले पर हुई अहम बैठक में ये महत्‍वपूर्ण निर्णय लिया गया। परिदृश्य को देखते हुए साफ हो चुका है कि पश्चिम बंगाल में दीदी बनाम सभी की लड़ाई है। सभी विरोधी पार्टियां एम’ मनी, मसल और मीडिया को ‘एम’ ममता दीदी के खिलाफ इस्‍तेमाल कर रहे हैं। इसे देखते हुए शिवसेना ने निर्णय लिया है कि वह पश्चिम बंगाल में चुनाव नहीं लड़ेगी।]

बंगाल की शेरनी
शिवसेना नेता संजय राउत ने पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी की तारीफ करते हुए लिखा कि हमें यकीन है कि सही मायनों में वह बंगाल की शेरनी हैं। शिवसेना इस लड़ाई में ममता दीदी के साथ है। हम उनकी बड़ी सफलता की आशा करते हैं।

पश्चिम बंगाल में आठ चरणों में होगा चुनाव

गौरतलब है कि निर्वाचन आयोग ने बीते शुक्रवार ( 27 फरवरी) को विधानसभा चुनावों की तिथियों का एलान किया। चुनाव आयोग के अनुसार 27 मार्च से मतदान शुरू होकर 29 अप्रैल तक चलेगा जबकि मतगणना 2 मई को की जाएगी। बता दें पश्चिम बंगाल में आठ चरणों में चुनाव संपन्‍न होगा। आयोग के अनुसार वोटिंग 27 मार्च, 1 अप्रैल, 6अप्रैल, 10 अप्रैल, 17 अप्रैल, 22 अप्रैल, 26 अप्रैल और 29 अप्रैल को होगी।