सुधा इसके बाद बेटी के लापता होने का नाटक करती रही. उसने पति के साथ बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट भी पुलिस में दर्ज कराई. सुधा ने पुलिस को बताया कि वो बेटी को घर से बाहर चाट की दुकान पर गोभी मंचूरियन खिलाने के लिए ले गई थी. जब वो बिल का भुगतान करने गई तो बेटी लापता हो गई.

एक मां ने अपनी 3 साल की बेटी की गला दबा कर जान ले ली. 26 साल की महिला मासूम बेटी से इस बात पर नाराज थी कि वो हमेशा अपने पिता का साथ देती थी. हाल ही में दोनों पति-पत्नी का टीवी रिमोट कंट्रोल को लेकर झगड़ा हुआ था और बेटी ने पिता का पक्ष लिया था. इस बात ने महिला के गुस्से को और बढ़ा दिया.

सुधा नाम की इस महिला ने एक निर्माणाधीन इमारत में ले जा कर बेटी की गला दबाकर हत्या कर दी. सुधा पश्चिमी बेंगलुरू में टाइल्स की एक दुकान पर हाउसकीपिंग स्टाफ में काम करती है. पति इरन्ना दिहाड़ी श्रमिक है.

सुधा इसके बाद बेटी के लापता होने का नाटक करती रही. उसने पति के साथ बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट भी पुलिस में दर्ज कराई. सुधा ने पुलिस को बताया कि वो बेटी को घर से बाहर चाट की दुकान पर गोभी मंचूरियन खिलाने के लिए ले गई थी. जब वो बिल का भुगतान करने गई तो बेटी लापता हो गई.

अगले दिन किसी राहगीर ने निर्माणाधीन इमारत के पास से गुजरते हुए बच्ची का शव देखा. उसने इसकी सूचना पुलिस को दी. पुलिस मौके पर पहुंची. बच्ची की पहचान होने के बाद पुलिस ने सुधा और इरन्ना को बुलाया.

पुलिस को सुधा की बातों से कुछ शक हुआ. पुलिस ने चाट की दुकान पर जाने के बारे में सुधा से पूछताछ की. पुलिस ने सख्ती दिखाई तो सुधा ने बेटी को गला घोंटकर मारने का जुर्म कबूल कर लिया.