महिला आयोग की प्रमुख के बयान से देशभर में विवाद शुरू हो गया है .देश के कुछ हिस्सों में रेप की शिकायत दर्ज कराने को ही शर्मनाक माना जाता है.महिला आयोग की प्रमुख ने कहा की दुष्कर्म के ज्यादातर मामले महिला के किसी युवक के साथ सहमति से जारी संबंध टूट जाने के बाद दायर किए जाते हैं.

देश के कुछ हिस्सों में रेप शिकायत दर्ज कराने वाली महिला पर ही सवाल दागे जाते हैं.महिला आय़ोग की प्रमुख किरणमयी नायक ने कहा, अगर कोई शादीशुदा व्यक्ति किसी लड़की को रिश्ते कायम करने के लिए बहलाता-फुलाता है, तो उसे समझना होगा कि वह व्यक्ति झूठ बोल रहा है और क्या भविष्य में वह रिश्ता कायम रख पाएगा.

जब महिला रिलेशनशिप में होती है तब तक सब ठीक होता है मगर जैसे ही दोनों का रिश्ता किसी कारणवस् टूट जाता है तो ज्यादातर मामलों में महिलाएं पुलिस के पास जाकर शिकायत दर्ज कराती हैं.ये बात छतीशगढ से महिला आयोग अध्यक्ष महिलाओं से जुड़े मामलो पर कहा ..बिलासपुर में महिलाओं के उत्पीड़न से जुड़े मामलों में जन सुनवाई के दौरान एक सवाल के जवाब में नायक ने यह प्रतिक्रिया दी. इसको लेकर विवाद खड़ा हो गया है.

उन्होंने कहा, “ज्यादातर मामलों में जब सहमति से बने संबंध टूट जाते हैं, लिव इन रिलेशनशिप खत्म हो जाती है तो रेप की एफआईआर दर्ज करा दी जाती है.उन्होंने कहा – मेरी सलाह है कि अगर आप नाबालिग हैं तो किसी भी फिल्मी रोमांस के जाल में न फंसे. आपका परिवार, दोस्त और पूरी जिंदगी तबाह हो सकती है. आज के वक्त में 18 साल की उम्र में शादी करने का चलन बढ़ा है.कुछ सालों बाद जब बच्चा हो जाता है तो जोड़े के लिए साथ रहना मुश्किल हो जाता है.”