कोरोना के बढ़ते संक्रमण की रोकथाम के लिए राजस्थान सरकार ने कुछ कड़े कदम उठाए हैं. सरकार ने रात के कर्फ्यू के साथ में राज्य के सभी मल्टीप्लैक्स और जिम भी बंद करने के निर्देश दे दिए हैं. इसके अलावा 9वीं कक्षा तक के स्कूल भी बंद रहेंगे. राज्य के बाहर से आने वालों को अपने साथ RT-PCR टेस्ट की रिपोर्ट लानी होगी.

72 घंटे से ज्यादा पुरानी न हो RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट

राज्य सरकार के गृह विभाग के प्रमुख सचिव, अभय कुमार द्वारा जारी किए गए दिशा-निर्देशों के मुताबिक किसी भी सामाजिक समारोह में 100 से ज्यादा लोग शामिल नहीं हो सकेंगे. राजस्थान के बाहर से आने वाले लोगों को राज्य में प्रवेश के वक्त कोविड संक्रमण से मुक्त होने का प्रमाण RT-PCR टेस्ट रिपोर्ट के रूप में दिखाना होगा. ये रिपोर्ट राज्य में प्रवेश करने के समय से 72 घंटे से ज्यादा पुरानी नहीं होनी चाहिए. गाईडलाइन्स के मुताबिक जिस इलाके में 5 से ज्यादा लोगों में कोविड संक्रमण पाया जाता है, उस कॉलोनी, अपार्टमेंट या मोहल्ले को कलेक्टर द्वारा माइक्रो निषिद्ध जोन घोषित किया जाएगा.

रात को 8 बजे से कर्फ्यू

राज्य सरकार टीकाकरण को लेकर भी विशेष प्रयास करेगी. टीकाकरण की गति को बढ़ाया जाएगा. लोगों को टीकाकरण के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए विशेष जागरूकता अभियान चलाए जाएंगे. जहां तक मुमकिन हो, निजी और सरकारी संस्थाओं को ‘वर्क फ्रॉम होम’ के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा. रात्रिकालीन कर्फ्यू रात 8 बजे से ही लागू कर दिया जाएगा और सुबह के 6 बजे तक जारी रहेगा.

राजस्थान में कोरोना के मरीज तेजी से बढ़ते जा रहे है. प्रशासन की लाख कोशिशों के बाद भी कोरोना संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है. आईआईटी जोधपुर में करीब 65-70 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं. संक्रमितो में प्रोफेसर, छात्र और गैर शैक्षणिक कर्माचारी शामिल हैं. राजस्थान में 11,738 एक्टिव केस हैं. पिछले 24 घंटे में 1,254 केस रिपोर्ट किए गए हैं. ऐसे में प्रशासन की कोशिश है कि जल्द से जल्द इस पर काबू पाई जाए.