कांग्रेस नेता राहुल गाँधी गुरुवार को राष्ट्रपति भवन तक मार्च करेंगे। सरकार द्वारा कृषि कानून सितम्बर में लागु किया गया था। पिछले तीन महीनो में कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने देश भर से कृषि कानून के खिलाफ लगभग 20 करोड़ हस्ताक्षर एकत्र किए है। और यही हस्ताक्षर लेकर आज कांग्रेस नेता राहुल गाँधी देश के राष्ट्रपति राम नाथ से मिलने राष्ट्रपति भवन पहुंचेंगे। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद से मिलने से पहले, राहुल गांधी सितंबर में लागू तीन कृषि कानूनों के खिलाफ एक विरोध प्रदर्शन का नेतृत्व करेंगे।

कांग्रेस के MP K सुरेश ने बताया की राहुल गाँधी गुरुवार सुबह 10:45 पर अपनी मार्च विजय चौक से शुरू करेंगे। राहुल गांधी ने विपक्षी नेताओं के साथ राष्ट्रपति से मुलाकात करने की बात कही और किसानों के मुद्दे को हल करने के लिए ज्ञापन सौंपा। लेकिन राष्ट्रपति और सरकार की ओर से कोई कार्रवाई नहीं हुई। राहुल गांधी कल सुबह 10:45 बजे विजय चौक से राष्ट्रपति भवन तक कांग्रेस सांसदों के साथ प्रदर्शन का नेतृत्व करेंगे।उसके बाद, वह और अन्य वरिष्ठ नेता भारत के राष्ट्रपति से मिलेंगे और किसानों के आंदोलन को हल करने के लिए उनके हस्तक्षेप के लिए 2 करोड़ हस्ताक्षर युक्त एक ज्ञापन सौंपेंगे।

राहुल गांधी ने पहले पंजाब और हरियाणा में कानूनों के खिलाफ अभियान के तहत एक ट्रैक्टर रैली निकाली। कांग्रेस ने कानूनों को रद्द करने के लिए राष्ट्रपति कोविंद को संबोधित किसानों, खेत मजदूरों और अन्य हितधारकों की अपील एकत्र करने के लिए सितंबर में एक राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू किया। किसान उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अधिनियम, 2020 के खिलाफ 26 नवंबर से सैकड़ों किसान दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।