लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने बड़ा फैसला किया है, राज्य में महिलाओं के साथ छेड़खानी करने वालों के पोस्टर शहरों की गलियों में चिपकाए जाएंगे। राज्य सरकार ने यह फैसला उसी तर्ज पर किया है जिस तर्ज पर नागरिकता कानून (CAA) के विरोध में हिंसा करने वालों के पोस्टर शहरों में चिपकाए गए थे और उनसे सरकारी संपत्ति के हुए नुकसान की भरपाई की गई है।

उत्तर प्रदेश में महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले सामने आने के बाद सरकार ने यह फैसला किया है। इसके अलावा महिलाओं से छेड़खानी करने वालों को पकड़ने के लिए महिला पुलिसकर्मियों की निगरानी बढ़ाने का भी फैसला हुआ है। सीएम योगी ने अधिकारियों से कहा है कि महिलाओं से किसी भी तरह का अपराध करने वाले दुराचारियों को महिला पुलिस कर्मियों से ही दंडित कराया जाए।

सीएम योगी ने कहा कि महिला पुलिसकर्मी ऐसे अपराधियों को सबक सिखाएं ताकि वह (अपराधी) महिलाओं के साथ अपराध करने में डरें। इसके साथ ही सीएम योगी ने महिलाओं और बच्चियों के साथ हो रहे अपराधों को लेकर पुलिस को चेतावनी दी है। उन्होंने अपराध होने पर सीधे संबंधित बीट इंचार्ज, चौकी इंचार्ज, थाना प्रभारी और सीओ की जवाबदेही तय करने की बात कही है।

वहीं, इसके अलावा मुख्यमंत्री योगी ने अधिकारियों को दुराचारी, पेशेवर अपराधियों के भी पोस्टर चौराहों पर लगाने के लिए कहा है। यह आदेश इसीलिए दिया गया है ताकि लोगों को उन अपराधियों के बारे में पता चले और वह उनका समाज बहिष्कार करें।