लाइट हाउस प्रोजेक्ट के लिए जिन राज्यों को चुना गया है उनमें त्रिपुरा, झारखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, गुजरात और तमिलनाडु शामिल हैं. लाइट हाउस प्रोजेक्ट केंद्रीय शहरी मंत्रालय की महत्वाकांक्षी योजना है जिसके तहत लोगों को स्थानीय जलवायु और इकोलॉजी का ध्यान रखते हुए टिकाऊ आवास प्रदान किए जाते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2022 तक सभी को आवास मुहैया कराने की दिशा में अहम कदम उठाया है. इस दिशा में पीएम मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लाइट हाउस प्रोजेक्ट का उदघाटन किया. नए साल में यह प्रधानमंत्री मोदी का पहला कार्यक्रम है. पीएम मोदी के ये कार्यक्रम शहरी भारत में लोगों को आवास मुहैया कराने में अहम साबित होंगे।

लाइट हाउस प्रोजेक्टर में तकनीक का सर्वोत्तम रूप दिखेगा, जिसका इस्तेमाल जनकल्याण के लिए किया जाता है. पीएम मोदी ने कहा कि ये सेशन निर्माण क्षेत्र के प्रोफेशनल के बेहतर मौका प्रदान करेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि ऑर्किटेक्चर, प्लानिंग और निर्माण क्षेत्र से जुड़े साथियों से वे अपील करते हैं कि आज 11 बजे इस प्रोग्राम से जुड़े. इस दौरान हाउसिंग सेक्टर और अर्बन प्लानिंग से जुड़े मुद्दों पर विस्तार से चर्चा होगी।

इस प्रोजेक्ट में खास तकनीक का इस्तेमाल कर सस्ते और मजबूत मकान बनाए जाते हैं. इस प्रोजेक्ट में फैक्टरी से ही बीम-कॉलम और पैनल तैयार कर घर बनाने के स्थान पर लाया जाता है, इसका फायदा ये होता है कि निर्माण की अवधि और लागत कम हो जाती है. इसलिए प्रोजेक्ट में खर्च कम आता है. इस प्रोजेक्ट के तहत बने मकान पूरी तरह से भूकंपरोधी होंगे।