देश में जानलेवा कोरोना वायरस की दूसरी लहर का कहर ऐसा बरपा की अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी हो गई. देश में हाहाकार मच गया और मरीज अस्पतालों में और अस्पतालों के बाहर ऑक्सीजन नहीं मिलने से दम तोड़ने लगे. इस दौरान रेलवे ने ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों के जरिए राज्यों को ऑक्सीजन मुहैया कराई. आज रेल मंत्री पीयूष गोयल ने बताया है कि ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों ने कोरोना मरीजों तक 20 हजार मीट्रिक टन ऑक्सीजन पहुंचाने का पील का पत्थर पार कर लिया है.

आपूर्ति के लिए लगीं 300 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन- गोयल

पीयूष गोयल ने ट्वीट किया, ‘’ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों ने भारत में कोरोना के रोगियों के लिए 20000 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उपलब्ध कराने का मील का पत्थर पार कर लिया है.’’ उन्होंने बताया, ‘’अब तक 300 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों ने राष्ट्र की सेवा में अपनी यात्रा पूरी की है.’’

महाराष्ट्र को 126 टन ऑक्सीजन मिली

बता दें कि रेलवे ने अबतक करीब 15 राज्यों के 39 शहरों में 1162 से ज्यादा टैंकरों के माध्यम से ऑक्सीजन पहुंचाई है. ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनों ने 24 अप्रैल को आपूर्ति शुरू की और महाराष्ट्र को 126 टन ऑक्सीजन मिली. दक्षिण के राज्यों में आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक और तेलंगाना शामिल है, जहां प्रत्येक राज्य को एक-एक हजार टन तरल मेडिकल ऑक्सीजन की आपूर्ति रेलवे ने की.

किन-किन राज्यों में पहुंची ऑक्सीजन एक्सप्रेस?

ये ट्रेनें जिन 15 राज्यों में पहुंचीं, उनमें उत्तराखंड, कर्नाटक, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, राजस्थान, तमिलनाडु, हरियाणा, तेलंगाना, पंजाब, केरल, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, झारखंड एवं असम शामिल हैं.