विधानसभा चुनाव में एनडीए की जीत का दावा करते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा कि पहले चरण के मतदान के बाद यह साफ हो चुका है कि एनडीए पुन: बिहार में सरकार बनाने जा रही है. पहले चरण के मतदान के बाद एनडीए का हौसला नई ऊंचाइयों पर पहुंच गया है. एनडीए की सरकार किसानों, महिला सम्मान के लिए प्रतिबद्ध रही है।

विपक्ष पर जोरदार प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि जंगलराज को कोई भूला नहीं है. उस राज में एक शादी हुई थी जहां शोरूम से गाड़ियां लूट ली गई थी. वो जंगलराज ही था जहां पर माफिया और डॉन ने दो भाईयों को तेजाब से जला दिया था और सरकारी गवाह को भी मार दिया गया था. वो जंगलराज ही था जब फिरौती के लिए मुख्यमंत्री आवास से कॉल आते थे. जंगलराज के खिलाफ हमने लड़ाई लड़ी जिसका परिणाम है कि आज सुशासन का राज है, संविधान का राज है. बिहार की जनता आज सुशासन पर मुहर लगा रही है. इसी अटूट विश्वास के साथ हम चुनाव में गए हैं।

आरजेडी के पोस्टर से लालू-राबड़ी की तस्वीर हटाए जाने पर गौरव भाटिया ने जमकर हमला किया. उन्होंने कहा कि लालू-राबड़ी का चेहरा इसलिए हटाया गया है ताकि लोगों को जंगलराज की याद न आए. आरजेडी, कांग्रेस तथा उनके गठबंधन साथियों को भी पता है कि ये चेहरा जितना दूर रहेगा उन्हें फायदा होगा. लेकिन जनता की याददाश्त बहुत मजबूत होती है और वे इनके कुकर्म को नहीं भूली है. खाता न बही जो बिहार की जनता कहे वहीं सही और बिहार की जनता एनडीए के साथ खड़ी है।

नक्सलवाद को लेकर उन्होंने विपक्ष पर करार प्रहार किया. उन्होंने कहा कि बिहार ने नक्सलवाद का वायरस देखा है. ये कितना खतरनाक होता है ये सब जानते हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने और अमित शाह जी ने नक्सलवाद को खत्म करने का काम किया है परंतु महागठबंधन ने माले से ही गठबंधन कर लिया क्योंकि मछली जल बिना रह सकती है लेकिन आरजेडी और कांग्रेस सत्ता के बिना नहीं रह सकते हैं. इनको जनता की कोई परवाह नहीं है बस सत्ता की फिक्र है. कांग्रेस के नेता ने छत्तीसगढ़ चुनाव में नक्सलवादियों को भटके हुए क्रांतिकारी बताया था, इसे बिहार की जनता कभी नहीं भूलेगी क्योंकि जो बिहार के लोगों को शासन नहीं दे सकता है वो सुशासन कैसे दे सकता है?

उन्होंने कहा कि इस चुनाव में विकास अगर मुद्दा बना तो केवल इसलिए कि केंद्र में नरेंद्र मोदी और बिहार में नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में सरकार ने यह कर दिखाया कि धर्म और जाति से ऊपर उठकर आम जनता विकास चाहती है. विकास का मॉडल मोदी जी ने लाया है. ये चुनाव तय करेगा कि सुशासन ही सबसे बड़ा मुद्दा है, अगर आप जनता के प्रति सजग हैं, आपके अंदर सत्ता भाव की जगह सेवा भाव है तो एंटी इनकंबेंसी कुछ नहीं होती है. जनता को आपको बार बार मौका देगी. उन्होंने जनता से मतदान की अपील करते हुए कहा कि बिहार में डबल इंजन की सरकार रहे और विकास बढ़े, वंशवाद का अंत हो इसके लिए आपको मतदान करना होगा. यह चुनाव भविष्य में बिहार की दशा और दिशा भी बदलेगा.

बीजेपी के संकल्प पत्र पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि यह सिर्फ वादा नहीं बल्कि हमारा संकल्प है जिसे हमने पहले भी पूरा किया है तथा आगे भी पूरा होगा. बिहारियों को मुफ्त कोरोना टीका देने के संकल्प पर उन्होंने कहा कि यह कदम इतना अच्छा था कि बाकी के राज्यों जैसे मध्य प्रदेश, पुडुचेरी ने भी इसे अपनाया है परंतु कुछ लोगों को दर्द हो रहा है. क्या ऐसे लोगों को बिहार की जनता की चिंता नहीं है?

गौरव भाटिया ने कहा कि जनता का कहना है कि महागठबंधन से जनता का कोई मेल नहीं है और इस लालटेन में अब कोई तेल नहीं है क्योंकि महागठबंधन अब महाठगबंधन हो गया है, तो फिर एलईडी के युग में लालटेन पर वोट कौन करेगा? जनता कह रही है कि आरजेडी का मतलब ही है रंगदारी, जंगलराज और डकैती।

गौरव भाटिया ने कहा कि पहले बिहार के युवाओं को रोजगार नहीं मिलता था, उन्हें सम्मान नहीं मिलता था जिसके चलते उन्हें बिहार से बाहर जाना पड़ता था. जब नीतीश जी मुख्यमंत्री बनें तो सुशासन तथा कानून का राज आया. जो जंगलराज बिहार ने देखा था, जो गड्ढे विपक्ष ने बनाए थे उन गड्ढों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने सुशासन,ईमानदारी और निष्ठा के साथ भरने का काम किया, बीजेपी भी इसमें बराबर की हिस्सेदार रही है.

बीजेपी के संकल्प पत्र पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि यह सिर्फ वादा नहीं बल्कि हमारा संकल्प है जिसे हमने पहले भी पूरा किया है तथा आगे भी पूरा होगा. बिहारियों को मुफ्त कोरोना टीका देने के संकल्प पर उन्होंने कहा कि यह कदम इतना अच्छा था कि बाकी के राज्यों जैसे मध्य प्रदेश, पुडुचेरी ने भी इसे अपनाया है परंतु कुछ लोगों को दर्द हो रहा है. क्या ऐसे लोगों को बिहार की जनता की चिंता नहीं है?

जंगलराज में शोरूप से लूट ली गई थी गाड़ियां
विपक्ष पर जोरदार प्रहार करते हुए उन्होंने कहा कि जंगलराज को कोई भूला नहीं है. उस राज में एक शादी हुई थी जहां शोरूम से गाड़ियां लूट ली गई थी. वो जंगलराज ही था जहां पर माफिया और डॉन ने दो भाईयों को तेजाब से जला दिया था और सरकारी गवाह को भी मार दिया गया था. वो जंगलराज ही था जब फिरौती के लिए मुख्यमंत्री आवास से कॉल आते थे. जंगलराज के खिलाफ हमने लड़ाई लड़ी जिसका परिणाम है कि आज सुशासन का राज है, संविधान का राज है. बिहार की जनता आज सुशासन पर मुहर लगा रही है. इसी अटूट विश्वास के साथ हम चुनाव में गए हैं.

जनता कांग्रेस की राजनीति को खत्म कर देगी
उन्होंने कहा कि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) तथा देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) एक जमीनी कार्यकर्ता हैं, वो गरीबों का दर्द जानते हैं तो दूसरी तरफ TT की राजनीति हो रही है. जहां पर कांग्रेस की अध्यक्षा टेलीविजन से राजनीति कर रही हैं. वो बिहार की जनता से कब बात करने आएंगी पता ही नहीं है?

दूसरी तरफ युवराज जो भ्रष्टाचार का चेहरा हैं वो ट्विटर-ट्विटर खेलते हैं. जनता कांग्रेस की इस राजनीति को खत्म करेगी.  आरजेडी के पोस्टर से लालू-राबड़ी की तस्वीर हटाए जाने पर गौरव भाटिया ने जमकर हमला किया. उन्होंने कहा कि लालू-राबड़ी का चेहरा इसलिए हटाया गया है ताकि लोगों को जंगलराज की याद न आए. आरजेडी, कांग्रेस तथा उनके गठबंधन साथियों को भी पता है कि ये चेहरा जितना दूर रहेगा उन्हें फायदा होगा. लेकिन जनता की याददाश्त बहुत मजबूत होती है और वे इनके कुकर्म को नहीं भूली है. खाता न बही जो बिहार की जनता कहे वहीं सही और बिहार की जनता एनडीए के साथ खड़ी है.

उन्होंने कहा कि आरजेडी के सबसे बड़े नेता चारा घोटाले में जेल की सलाखों के पीछे हैं. जंगलराज के युवराज पर भी आईआरसीटीसी (IRCTC) घोटाले का आरोप है और भ्रष्टाचार के मामले में इनको सिर्फ एक ही शख्स पीछे छोड़ सकता है वो खानदानी चोर हैं और बेल पर बाहर घूम रहे हैं. चुनाव में मोदी फैक्टर की बात होती है क्योंकि जनता को नरेंद्र मोदी पर विश्वास है, क्या किसी ने राहुल और सोनिया फैक्टर बोला है ? ये फैक्टर नहीं है बल्कि जनता को लूटने वाले हैं.

नक्सलवाद को लेकर उन्होंने विपक्ष पर करार प्रहार किया. उन्होंने कहा कि बिहार ने नक्सलवाद का वायरस देखा है. ये कितना खतरनाक होता है ये सब जानते हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने और अमित शाह जी ने नक्सलवाद को खत्म करने का काम किया है परंतु महागठबंधन ने माले से ही गठबंधन कर लिया क्योंकि मछली जल बिना रह सकती है लेकिन आरजेडी और कांग्रेस सत्ता के बिना नहीं रह सकते हैं. इनको जनता की कोई परवाह नहीं है बस सत्ता की फिक्र है. कांग्रेस के नेता ने छत्तीसगढ़ चुनाव में नक्सलवादियों को भटके हुए क्रांतिकारी बताया था, इसे बिहार की जनता कभी नहीं भूलेगी क्योंकि जो बिहार के लोगों को शासन नहीं दे सकता है वो सुशासन कैसे दे सकता है?

गौरव भाटिया ने कहा कि जनता का कहना है कि महागठबंधन से जनता का कोई मेल नहीं है और इस लालटेन में अब कोई तेल नहीं है क्योंकि महागठबंधन अब महाठगबंधन हो गया है, तो फिर एलईडी के युग में लालटेन पर वोट कौन करेगा? जनता कह रही है कि आरजेडी का मतलब ही है रंगदारी, जंगलराज और डकैती।

गौरव भाटिया ने कहा कि पहले बिहार के युवाओं को रोजगार नहीं मिलता था, उन्हें सम्मान नहीं मिलता था जिसके चलते उन्हें बिहार से बाहर जाना पड़ता था. जब नीतीश जी मुख्यमंत्री बनें तो सुशासन तथा कानून का राज आया. जो जंगलराज बिहार ने देखा था, जो गड्ढे विपक्ष ने बनाए थे उन गड्ढों को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने सुशासन,ईमानदारी और निष्ठा के साथ भरने का काम किया, बीजेपी भी इसमें बराबर की हिस्सेदार रही है ।