कोरोना के इस महासंकट में कई लोग मुसीबतों का सामना न कर पाने की वजह से आत्महत्या जैसे कदम उठा रहे हैं। ताजा मामला मुंबई के युवा क्रिकेटर का है। जिसने आईपीएल में सिलेक्शन ना होने के दुख में आत्महत्या कर ली यह क्रिकेटर मुंबई के कुर्ला इलाके में रहता था। कुरार के कानू कंपाउंड में रहने वाले 27 वर्षीय क्रिकेटर का नाम करण तिवारी था। परिवार ने कोच पर लगाया आरोप करण तिवारी के परिजनों ने आरोप लगाया है कि करण कोच उसका समर्थन नहीं करते थे। एक उत्तर भारतीय होने के नाते उसका सिलेक्शन नहीं हो पाता था। जबकि करण एक बेहतरीन क्रिकेटर था और वह आईपीएल की तैयारी कर रहा था। आईपीएल में सिलेक्शन ना हो पाने की वजह से एक कारण काफी तनाव में रहता था। स्थानीय पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक करण ने आत्महत्या करने के पहले 10 अगस्त की रात को तकरीबन साढ़े दस बजे शुभम नाम के अपने दोस्त को वॉइस मैसेज भेजा था। जिसमें वह भावुक होकर यह बता रहे थे कि मेरा आईपीएल में सिलेक्शन होते-होते रह गया। जिसकी वजह से मैं बहुत टेंशन में हूं। करण ने वॉइस मैसेज में खुदकुशी करने की बात का भी जिक्र किया था।