आईपीएल में मैच फिक्सिंग का डर नहीं:एंटी करप्शन हेड ने कहा- बायो-सिक्योर माहौल में टूर्नामेंट भ्रष्टाचारियों से भी सुरक्षित, स्पेशल इंतजाम की जरूरत नहीं

  • आईपीएल कोरोना के कारण यूएई में 19 सितंबर से 10 नवंबर तक बायो-सिक्योर माहौल में होगा
  • हर बार की तरह इस बार भी खेल के दिग्गजों ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में मैच फिक्सिंग को लेकर चिंता जताई है। हांलाकि, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) की एंटी करप्शन यूनिट (एसीयू) के हेड अजीत सिंह ने टेंशन नहीं लेने की बात कही है। उन्होंने कहा कि इस बार बायो-सिक्योर माहौल के कारण टूर्नामेंट भ्रष्टाचारियों से काफी सुरक्षित रहेगा। अलग से स्पेशल इंतजाम की कोई जरूरत नहीं होगी।

    •  कोरोनावायरस के कारण इस बार आईपीएल 19 सितंबर से 10 नवंबर तक यूएई में होगा। बायो-सिक्योर माहौल के कारण टूर्नामेंट के दौरान खिलाड़ियों समेत स्टाफ को फैंस और दूसरे किसी भी बाहरी व्यक्ति से मिलने या बात करने की अनुमति नहीं होगी।

    मैच फिक्सरों का कोई खतरा नहीं
    अजीत सिंह से पूछा गया कि बायो-सिक्योर माहौल में आईपीएल होने से टूर्नामेंट पर मैच फिक्सरों का कोई खतरा नहीं होना चाहिए। इस पर उन्होंने न्यूज एजेंसी से कहा, ‘‘जी बिल्कुल ऐसा हो सकता है। इस साल हमें स्पेशल सुरक्षा इंतजामों की भी जरूरत नहीं होगी।’’

    खिलाड़ियों और बाहरी लोगों के बीच संपर्क नहीं रहेगा
    हाल ही में अजीत सिंह ने क्रिकेट वेबसाइट ईएसपीएन क्रिकइंफो से कहा था, ‘‘कोई भी यह नहीं कह सकता कि टूर्नामेंट पूरी तरह सुरक्षित हो सकता है। हालांकि, एंटी-करप्शन के नजरिए से देखें तो इस बार आईपीएल पहले से कई ज्यादा सुरक्षित माहौल में होगा। क्योंकि बायो-सिक्योर माहौल के कारण टीम, सपोर्ट स्टाफ और बाहरी लोगों के बीच संपर्क नहीं हो पाएगा।’’

    बायो-सिक्योर तोड़ने पर सजा मिलेगी
    इस बार आईपीएल 53 दिन का होगा। 8 टीमों के बीच 60 मैच खेले जाएंगे। यह सभी मुकाबले यूएई के तीन स्टेडियम दुबई, अबु धाबी और शारजाह में होंगे। बीसीसीआई ने सभी फ्रेंचाइजियों को 20 अगस्त के बाद यूएई जाने की मंजूरी दी है। खिलाड़ियों और स्टाफ को बायो-सिक्योर माहौल तोड़ने पर सख्त सजा भी मिलेगी।

    आईपीएल 3 वेन्यू पर, फिक्सिंग पर नजर रखना आसान
    इससे पहले भी अजीत सिंह कह चुके हैं कि आईपीएल में भ्रष्टाचार को लेकर टेंशन लेने की जरूरत नहीं है। सभी मैच तीन जगहों पर होने से मैच फिक्सिंग जैसी चीजों पर नजर रखना ज्यादा आसान होगा। आईपीएल भारत में 8 वेन्यू होता है। अजीत सिंह ने कहा, ‘‘बीसीसीआई के 8 एसीयू अधिकारी पेरोल पर हैं। वे पैनी नजर रखेंगे। अगर जरूरत पड़ी तो हम निगरानी के लिए और ज्यादा अधिकारी नियुक्त करेंगे। हम आईसीसी से भी मदद ले सकते हैं।’’