किसान बिलकुल अपनी बात पर टिके है . और आज उनका कहना है की आज नतीजा निकल कर नहीं आया तो तो करेंगे दिल्ली जाम और सांसद का घेराव .देशभर में जारी किसानों के विरोध प्रदर्शन के बीच किसान संगठनों और सरकार के बीच कानून पर बने गतिरोध को सुलझाने के लिए आज तीसरे दौर की बातचीत होगी.

हज़ारों- हज़ार की संख्या में किसान दिल्ली बॉर्डर पर बिना किसी चीज़ के परवाह किये सड़क पर डटे हुए है .

आइये जानते है किसान आंदोलन से जुडी कुछ महत्वपूर्ण बातें –

1 . समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, किसानों का चिल्ला बॉर्डर पर प्रदर्शन जारी रहा है. इस दौरान, एक किसान ने कहा कि यदि सरकार के साथ बातचीत में आज कुछ ठोस नहीं निकलता है तो हम संसद का घेराव करेंगे.

2 . शुक्रवार को किसान नेताओं ने अपने बिच एक बैठक की और तय किया की की तीनो बिल को बिना वापस कराये नहीं रहेंगे . सरकार की एक भी शर्त पर राज़ी नहीं होंगे .उन्होंने बताया कि सरकार कुछ संशोधन करने को तैयार है लेकिन हमने सरकार से साफ कहा है कि सरकार तीनों कानून वापस ले

3 . किसान नेताओं ने कहा – यदि सरकार हमारी बातें नहीं मानती है तो हम 8 दिसंबर को पुरे देश की टोल प्लाजा को जाम कर देंगे .जो दिल्ली के बचे कुचे रास्ते हैं उन्हें भी बंद करेंगे. किसानों कहा है कि वो कल 5 दिसंबर को पीएम मोदी के पुलते जलाएंगे.

4 . किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा – हम वृहस्पतिवार को हुए बैठक से नाराज़ है . यदि सरकार नहीं मानती है तो हम विरोध को तेज़ करेंगे और देश भर के किसानो को एकजुट करेंगे .यदि सरकार हमारी मांगों पर सहमत नहीं होती है, हम विरोध जारी रखेंगे. हम यह देखना चाह रहे हैं कि शनिवार की बैठक में क्या होता है.”

5 . किसान आंदोलन के कारण दिल्ली नॉएडा को जोड़ने वाली सभी सड़के जाम की स्तिथि से गुज़र रही .किसानों के प्रदर्शन की वजह से कई सड़कों को बंद किया गया है. दिल्ली-नोएडा लिंक रोड को भी आम लोगों के लिए बंद किया गया और लोगों को लिंक रोड के बजाये डीएनडी का इस्तेमाल करने की सलाह दी गई है.