नेशनल स्पोर्ट्स अवॉर्ड सेरेमनी आज:अब तक 38 खिलाड़ियों को मिल चुका है खेल रत्न; पहली बार सबसे ज्यादा पांच प्लेयर्स को मिलेगा देश का सबसे बड़ा खेल अवॉर्डइइससेपहले 2016 में चार खिलाड़ियों को खेल रत्न मिला था, इसमें से पीवी सिंधु, साक्षी मलिक और दीपा कर्माकर महिला खिलाड़ी हैं
  • रोहित शर्मा यह अवॉर्ड पाने वाले चौथे क्रिकेटर, उनसे पहले सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली को यह सम्मान मिल चुका है
  • इस बार 7 कैटेगरी में 74 खिलाड़ियों और कोच को पुरस्कार मिलेगा, लेकिन 60 लोग ही वर्चुअल समारोह में शामिल होंगे
  • कोरोना के कारण इस बार नेशनल स्पोर्ट्स अवॉर्ड वर्चुअल तरीके से दिए जाएंगे। ऐसा पहली बार होगा, जब नेशनल स्पोर्ट्स डे के मौके पर राष्ट्रपति भवन में अवॉर्ड सेरेमनी नहीं होगी। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद इस साल अलग-अलग 7 कैटेगरी में 74 खिलाड़ियों और कोच को पुरस्कार देंगे। इसमें 60 लोग ही मौजूद रहेंगे। पहली बार एक साथ पांच खिलाड़ियों को खेल रत्न मिलेगा। अब तक कुल 38 खिलाड़ियों को यह अवॉर्ड मिल चुका है।

    इस बार क्रिकेटर रोहित शर्मा समेत पांच खिलाड़ियों को खेल रत्न दिया जाएगा। इसमें महिला रेसलर विनेश फोगाट, टेबल टेनिस खिलाड़ी मनिका बत्रा, महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल और 2016 के पैरालिंपिक गोल्ड मेडलिस्ट मरियप्पन थांगावेलु शामिल हैं।

    4 साल पहले चार खिलाड़ियों को खेल रत्न मिला था

    इससे पहले, 2016 में एक साथ 4 खिलाड़ियों को यह अवॉर्ड मिला था। तब रियो ओलिंपिक में सिल्वर जीतने वाली बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु, महिला रेसलिंग में ब्रॉन्ज जीतने वाली साक्षी मलिक को यह सम्मान मिला था। इनके अलावा जिमनास्ट दीपा कर्माकर और शूटर जीतू को भी देश का सबसे बड़ा खेल पुरस्कार मिला था। 2009 में 3 खिलाड़ियों बॉक्सर एमसी मैरीकॉम, विजेंदर सिंह और सुशील कुमार को खेल रत्न दिया गया था।

    पांच बार दो खिलाड़ियों को मिल चुका है खेल रत्न
    पांच मौकों पर दो खिलाड़ियों को खेल रत्न अवॉर्ड मिला है। सबसे पहले 1997 में वेटलिफ्टर कुंजरानी देवी और टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस को यह अवॉर्ड मिला था। 6 साल बाद 2003 में शूटर अंजली भागवत और एथलीट के. बीनामोल को देश का सबसे बड़ा खेल पुरस्कार मिला।

    2012 में निशानेबाज विजय कुमार और योगेश्वर दत्त यह सम्मान हासिल करने वाले खिलाड़ी बने। इसके 5 साल बाद फिर से दो खिलाड़ियों देवेंद्र झाझरिया और सरदार सिंह खेल रत्न चुने गए। पिछले साल पैरा एथलीट दीपा मलिक और रेसलर बजरंग पूनिया इस अवॉर्ड से सम्मानित हुए।

    रोहित खेल रत्न सम्मान पाने वाले चौथे क्रिकेटर होंगे

    राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार की शुरुआत 1991 में हुई थी और सबसे पहला अवॉर्ड चेस खिलाड़ी विश्वनाथ आनंद को मिला था। तब से लेकर अब तक 38 खिलाड़ी यह सम्मान हासिल कर चुके हैं। इसमें रोहित शर्मा चौथे क्रिकेटर हैं। उनसे पहले सचिन तेंदुलकर(1997), महेंद्र सिंह धोनी (2007) और विराट कोहली(2018) में यह अवॉर्ड हासिल कर चुके हैं।

    विनेश खेल रत्न पाने वालीं पांचवीं रेसलर
    इस साल कॉमनवेल्थ और एशियन गेम्स में गोल्ड जीतने वालीं देश की पहली महिला रेसलर विनेश फोगाट को भी खेल रत्न मिलेगा। लेकिन कोरोना के कारण वे वर्चुअल अवॉर्ड सेरेमनी में शामिल नहीं हो पाएंगी। विनेश यह अवॉर्ड पाने वालीं पांचवीं रेसलर हैं।

    उनसे पहले ओलिंपिक मेडलिस्ट सुशील कुमार, योगेश्वर दत्त और साक्षी मलिक को खेल रत्न मिल चुका है। इनके अलावा बजरंग पूनिया भी पिछले साल इस अवॉर्ड से सम्मानित हो चुके हैं। मनिका बत्रा खेल रत्न से सम्मानित होने वालीं पहली टेबल टेनिस खिलाड़ी होंगी।

    2012 से 29 अगस्त को खेल दिवस के रूप में मनाया जा रहा

    2012 में केंद्र सरकार ने 29 अगस्त को खेल दिवस के रूप में मनाने का फैसला लिया था। इस दिन हॉकी के जादूगर मेजर ध्यानचंद का जन्मदिन होता है। वे 29 अगस्त 1905 को इलाहाबाद में पैदा हुए थे।

    1928 में एम्सटर्डम में हुए ओलिंपिक गेम्स में वह भारत की ओर से सबसे ज्यादा गोल करने वाले खिलाड़ी रहे। तब ध्यानचंद ने 14 गोल किए थे। 1932 के ओलिंपिक फाइनल में भारत ने अमेरिका को 24-1 से हराया था। उस मैच में ध्यानचंद ने 8 गोल किए थे। उनके भाई रूप सिंह ने भी 10 गोल किए थे।