पिछले कुछ महीनों के दौरान म्यूचुअल फंड की से बाजार से पैसे निकालने की रफ्तार लगभग थम गई है. AMFI की रिपोर्ट के मुताबिक नौ महीने के बाद पहली बार मार्च में घरेलू बाजार के शेयरों में म्यूचुअल फंड्स ने 2500 करोड़ रुपये का निवेश किया है. हालांकि हाल में देश में कोरोना की दूसरी लहर देखने को मिल रही है लेकिन पिछले कुछ महीनों से बाजार में इन फंड्स का विश्वास दिखा है और उनके निवेश में बढ़ोतरी दिख रही है. AMFIके मुताबिक मार्च 2021 में घरेलू फंड्स ने 2,476.5 करोड़ रुपये का निवेश किया है.

नौ महीने के बाद पहली बार निवेश बढ़ा

ऐसा पहली बार है जब नौ महीने के बाद म्यूचुअल फंड्स ने भारतीय बाजार में निवेश किया है. पिछले नौ महीनों से म्यूचुअल फंड्स पैसे निकाल रहे थे. जून 2020 से फरवरी 2021 के बीच घरेलू फंडों ने 1.24 लाख करोड़ रुपये निकाले हैं. मार्च में घरेलू फंडों ने घरेलू इक्विटी फंडों में 2476.5 करोड़ रुपये का निवेश किया है. इन फंड्स ने फरवरी में 16306 करोड़ रुपये निकाले थे. इसी जनवरी में घरेलू फंड्स ने 13032 करोड़, दिसंबर में 26428 करोड़ रुपये और नवंबर में 30760 करोड़ रुपये निकाले थे.

वित्त वर्ष 2021 की पहली तिमाही में घरेलू फंड्स ने भारतीय शेयरों में में 11711 करोड़ रुपये निवेश किए. जबकि बाकी तीनों तिमाहीयों में घरेलू फंड्स ने ज्यादातर बिकवाली की है. वित्त वर्ष 2021 की दूसरी तिमाही में घरेलू फंडों ने भारतीय शेयरों से 7214 करोड़ रुपये निकाले. इसी तरह तीसरी तिमाही में घरेलू फंड्स की ओर से से 25789 करोड़ रुपये और चौथी तिमाही में 19721 करोड़ रुपये की निकासी देखने को मिली.

एसआईपी के जरिये बढ़ा निवेश

एसआईपी के जरिये होने वाले निवेश में बढ़ोतरी दिखी है. वित्त वर्ष 2021 की चौथी तिमाही में एसआईपी के जरिये 15551 करोड़ रुपये का निवेश हुआ. वहीं, तीसरी तिमाही में इस रूट से 23520 करोड़ रुपये का निवेश हुआ. दूसरी तिमाही में 23411 करोड़ रुपये और पहली तिमाही में 24426 करोड़ रुपये एसआईपी के जरिये भारतीय शेयर बाजार में आए.