दिल्ली के बड़े प्राइवेट अस्पतालों में वेंटिलेटर और ICU बेड्स पूरी तरह से भरे हुए नज़र आ रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में आज बेड की उपलब्धता की समीक्षा की जाएगी और बेड्स का इंतज़ाम किया जाएगा.

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना के मामले तेजी से बढ़ते जा रहे हैं. पिछले 24 घंटे में 1904 नए मामले सामने आए हैं. इसके साथ ही दिल्ली के बड़े प्राइवेट अस्पतालों में वेंटीलेटर और ICU बेड्स पूरी तरह से भरे हुए नज़र आ रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि दिल्ली में आज बेड की उपलब्धता की समीक्षा की जाएगी और बेड्स का इंतज़ाम किया जाएगा.

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन के मुताबिक, सरकारी अस्पतालों में बहुत सारे आईसीयू और वेंटिलेटर खाली हैं, प्राइवेट में भी दो या तीन अस्पतालों में कमी हुई है, उसमें भी आज इंतज़ाम कर दिया जाएगा. सत्येन्द्र जैन ने कहा कि दिल्ली में प्राइवेट अस्पतालों में जो आईसीयू और वेंटिलेटर बेड की कमी देखने को मिल रही है वह दिल्ली में बढ़ते मामलों और अन्य राज्यों से भी आ रहे लोगों की वजह से है.

30 मार्च सुबह 11 बजे तक कोरोना मरीज़ों के लिए ‘वेंटिलेटर के साथ वाले ICU बेड्स’ का हाल (कोरोना ऐप)

1. केंद्र सरकार के Northern Railway अस्पताल में एक भी वेंटिलेटर वाले ICU बेड उपलब्ध नहीं हैं. यहां कुल वेंटिलेटर वाले ICU बेड्स की संख्या 10 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं.

2. ओखला के होली फैमिली अस्पताल में वेंटिलेटर वाले 3 ICU बेड ही उपलब्ध हैं. यहां कुल वेंटिलेटर वाले ICU बेड्स की संख्या 8 है.

3. द्वारका के वेंकेटेश्वर अस्पताल, शालीमार बाग के फॉर्टिस अस्पताल और मैक्स अस्पताल में एक भी वेंटिलेटर वाले ICU बेड उपलब्ध नहीं है. इन तीनों अस्पतालों में वेंटिलेटर वाले ICU बेड्स की संख्या 5 है और सभी 15 बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं.

30 मार्च सुबह 11 बजे तक कोरोना मरीज़ों के लिए ‘बिना वेंटीलेटर के ICU बेड्स’ का हाल (कोरोना ऐप)

1. दिल्ली सरकार के बाबा अंबेडकर अस्पताल में एक भी ICU बेड उपलब्ध नहीं है. यहां कुल ICU बेड्स की संख्या 9 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं.

2. सरिता विहार के अपोलो अस्पताल में एक भी ICU बेड उपलब्ध नहीं है. यहां कुल ICU बेड्स की संख्या 24 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं.

3. पश्चिम विहार स्तिथ श्री बालाजी अस्पताल में एक भी ICU बेड उपलब्ध नहीं है. यहां कुल ICU बेड्स की संख्या 21 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं.

4. पंजाबी बाग के महाराजा अग्रसेन अस्पताल में एक भी ICU बेड उपलब्ध नहीं है. यहां कुल ICU बेड्स की संख्या 18 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं.

5. शालीमार बाग के मैक्स अस्पताल में एक भी ICU बेड उपलब्ध नहीं है. यहां कुल ICU बेड्स की संख्या 17 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैंय

6. रोहिणी के जयपुर गोल्डन अस्पताल में एक भी ICU बेड उपलब्ध नहीं है. यहां कुल ICU बेड्स की संख्या 16 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं.

7. द्वारका के वेंकटेश्वर अस्पताल में एक भी ICU बेड उपलब्ध नहीं है. यहां कुल ICU बेड्स की संख्या 15 है और सभी बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं.

8. ओखला और शालीमार बाग के फोर्टिस अस्पताल में एक भी ICU बेड उपलब्ध नहीं है. इन दोनों अस्पतालों में ICU बेड्स की संख्या 12 है और सभी 24 बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं.

9. कीर्ति नगर के कालरा अस्पताल और राजेन्द्र नगर के सर गंगाराम अस्पताल में एक भी ICU बेड उपलब्ध नहीं है. इन दोनों अस्पतालों में ICU बेड्स की संख्या 9 है औरह सभी 18 बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं.

10. बसंत कुंज के फोर्टिस अस्पताल और साकेत के पुष्पावती अस्पताल में एक भी ICU बेड उपलब्ध नहीं है. इन दोनों अस्पतालों में ICU बेड्स की संख्या 8 है और सभी 16 बेड्स पर कोरोना मरीज़ भर्ती हैं.

11. इसके अलावा तुगलकाबाद के बत्रा अस्पताल, रोहिणी के श्री अग्रसेन अस्पताल, द्वारका के महाराजा अग्रसेन अस्पताल और निर्माण विहार के मलिक रेडिक्स अस्पताल में भी एक भी ICU बेड उपलब्ध नहीं है.

आपको बता दें कि दिल्ली सरकार के दिल्ली कोरोना ऐप में मंगलवार 30 मार्च सुबह 11 बजे तक कोरोना मरीज़ों के लिए कुल 5797 बेड्स हैं, जिसमें से अभी केवल 1604 पर मरीज़ भर्ती हैं, जबकि 4193 बेड्स खाली हैं. वहीं, दिल्ली में सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कुल 785 वेंटिलेटर युक्त आईसीयू बेड है, जिसमें से 255 पर मरीज़ भर्ती हैं, 530 बेड्स खाली हैं.

साथ ही बिना वेंटीलेटर वाले कुल आईसीयू बेड की संख्या 1225, इनमें से 372 बेड्स पर मरीज़ भर्ती हैं जबकि 853 बेड्स खाली हैं.