कोरोना संकट को देखते हुए सरकार इस साल बजट शत्र बुलाने के मूड में दिखाई नहीं दे रही है .लेकिन ऐसा भी नहीं है सरकार बिलकुल चाहती ही नहीं शत्र बुलाया जाए.सरकार कृषि बिल और क्रोमा को मद्देनज़र रखते हुए जल्द ही जनवरी तक बजट शत्र बुलाएगी.केंद्रीय संसदीय मंत्री प्रह्लाद जोशी द्वारा कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी को लिखे एक पत्र के अनुसार, सरकार जनवरी में ही बजट सत्र को शुरू कर सकती है.

कांग्रेस नेता अधिरंजन चौधरी ने पत्रलिख कहा की कोरोना संकट के कारण इस बार मॉनसून सत्र भी सितंबर में हो पाया था.जिसमें काफी सावधानी के साथ मानसून शत्र को अंजाम तक पहुँचाया गया था.बता दें उस मानसून शत्र में 27 बिल को पारित कराया गया था.

जवाब में प्रह्लाद जोशी ने लिखा है कि सर्दी का मौसम कोरोना संकट के कारण काफी अहम है और दिल्ली में भी लगातार केस बढ़े हैं. अभी दिसंबर आधा बीत गया है और हमें जल्द ही कोरोना वैक्सीन मिलने की उम्मीद है. ऐसे में मैंने कई फ्लोर लीडर्स से संपर्क किया है और शीतकालीन सत्र पर बात की है.

बता दें काफी समय से सांसद का कोई भी शत्र कोरोना के कारण नहीं चल पाया है.ऐसा काफी लंबे वक्त बाद हुआ है जब संसद का कोई सत्र नहीं हो रहा है. इसी मसले पर बीते दिनों लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने संसदीय मंत्री को चिट्ठी लिखी थी.

देखना दिलचस्प होगा की वैक्सीन का इंतजार, कृषि कानून पर मचा घमासान समेत कई अन्य मुद्दे हैं जिनपर विपक्ष लगातार हमलावर है. और कई बार संसद का सत्र बुलाने की मांग कर चुका है.तो ऐसे में सांसद की शुऊआत होती है तो कितना हमलावर नज़र आती है विपक्ष .