पिछले दिनों रिलीज हुई वेब सीरीज मिर्जापुर के खिलाफ नया विवाद शुरू हो गया है. लखनऊ में वेब सीरीज मिर्जापुर-2 के खिलाफ कोर्ट में अर्जी दाखिल की गई है. जिसमें यूपी, बिहार के लोगों की गलत छवि दिखाने की शिकायत की गई है.

साथ ही भोजपुरी भाषी क्षेत्र को आपराधिक दिखाने की भी शिकायत है. कृष्णा सेना के अध्यक्ष ने कोर्ट में अर्जी दी है. सीरीज से जुड़े फरहान अख्तर, रितेश सिधवानी, पंकज त्रिपाठी पर FIR की मांग की गई है. अर्जी पर सीजेएम ने हजरतगंज पुलिस से रिपोर्ट तलब की है और FIR की बात कही है. डीसीपी सेंट्रल सोमेन वर्मा के मुताबिक, कोर्ट के द्वारा मिर्जापुर सीरीज के संदर्भ में 156 में आख्या मांगी गई है.
हालांकि वेब सीरीज में लखनऊ के हजरतगंज से इसके तार जुड़े नहीं हैं. लेकिन कोर्ट के आदेशों का पालन करते हुए सीजीएम ने रिपोर्ट मांगी है जिसको हमें देना है.” मिर्जापुर सीरीज के मामले को लेकर वहां की सांसद अनुप्रिया पटेल ने भी ट्विटर पर वेब सीरीज के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है. अनुप्रिया ने बीते दिनों इस सीरीज के जरिए मिर्जापुर की गलत छवि पेश करने का आरोप लगाया था. जिसके बाद पंकज त्रिपाठी ने रिएक्ट किया था.

MP अनुप्रिया के बयान पर क्या बोले थे पंकज त्रिपाठी?
पंकज त्रिपाठी ने कहा था- हर एपिसोड की शुरुआत से पहले एक डिस्क्लेमर आता है जिसमें लिखा होता है कि मिर्जापुर एक काल्पनिक कहानी है और इसका किसी भी इंसान या जगह से कोई लेना-देना नहीं है. मैं एक एक्टर हूं और मैं इससे ज्यादा इस मामले में कुछ नहीं कहना चाहता हूं. मैं ये भी बताना चाहता हूं कि मिर्जापुर सीरीज में अगर क्रिमिनल्स हैं तो इसमें रामाकांत पंडित नाम का हीरो भी है जो शहर के लिए अच्छा काम करना चाहते हैं.