फिल्म इंडस्ट्री के सितारों ने भी इस साल गणपति उत्सव की तैयारियां कर ली हैं। अक्षय कुमार की अपकमिंग फिल्म ‘पृथ्वीराज चौहान’ से डेब्यू करने जा रही एक्ट्रेस मानुषी छिल्लर इस साल पहली बार अपने घर पर गणपति स्थापना करेंगी और इस बात से वे खासी रोमांचित हैं। वहीं शिल्पा शेट्टी इस साल इसे परिवार के सदस्यों के साथ सीमित रखते हुए सेलिब्रेट करेंगी।
23 वर्षीय पूर्व मिस वर्ल्ड मूल रूप से हरियाणा से हैं, लेकिन अब मुंबई भी उनका घर है और वे अपने पूरे परिवार के साथ अपने घर पर गणेश उत्सव मनाना चाहती हैं। वे कहती हैं, ‘मेरे माता-पिता हमेशा चाहते थे कि मैं विभिन्न संस्कृतियों का अनुभव करूं और उनका जश्न मनाऊं।’
मानुषी ने कहा, ‘मैं हरियाणा से हूं, लेकिन मुंबई भी मेरा घर है। जब मैंने पहली बार शहर में गणपति महोत्सव का अनुभव किया तो इससे काफी रोमांचित हुई थी। महाराष्ट्र में लोग जिस ऊर्जा, प्यार और जुनून जिसके साथ गणपति को मनाते हैं वो वास्तव में विशेष है।’
स्थापना को लेकर रोमांचित हैं मानुषी
आगे उन्होंने कहा, ‘यहां का उत्सव देख मुझे भी गणेश पूजा की इच्छा हुई और मैंने उसी वक्त गणपति की स्थापना करने का फैसला कर लिया। मुझे याद है कि मैंने अपने माता-पिता से कहा था कि मैं घर पर गणपति पूजा करना चाहती हूं और उन्होंने तुरंत हां कह दिया। इससे मैं रोमांचित थी।
‘मैं अपने घर पर गणपति को रख रही हूं और ये पहला साल है और मुझे इससे ज्यादा खुशी नहीं मिल सकती। ये मेरे लिए बेहद खास पल है और मैं सभी की शांति और समृद्धि के लिए प्रार्थना करूंगी।’
करेंगी इको-फ्रेंडली गणपति की स्थापना
मानुषी के अनुसार, ‘मैं जो गणपति रख रही हूं, वो मूर्ति इको-फ्रेंडली हैं। मूर्ति में बीज डाला गया है और इसलिए मैं इसका विसर्जन भी घर पर ही मिट्टी के गमले में ही करूंगी। मैं बीजों का अच्छी तरह से ख्याल रखना चाहती हूं, ताकि यह अंकुरित हो।’
आगे उन्होंने कहा, ‘त्योहारों को मनाना काफी महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह लोगों और संस्कृतियों को करीब लाता है। साथ ही पर्यावरण के अनुकूल तरीके से मना सकें, तो हम प्रकृति संरक्षण की दिशा में भी योगदान करेंगे।’
शिल्पा शेट्टी ग्राउंड फ्लोर पर नहीं करेंगी स्थापना
उधर शिल्पा शेट्टी ने गणपति स्थापना को लेकर कहा, ‘इस वर्ष कोविड-19 महामारी के प्रभाव के चलते ये उत्सव परिवार के साथ सीमित सा मामला होने वाला है। हर साल हम बप्पा को ग्राउंड फ्लोर पर लाते थे, लेकिन इस बार हम उन्हें ऊपरी मंजिल पर लाएंगे, क्योंकि इस बार बाहरी लोग तो आएंगे नहीं, सिर्फ फैमिली के लोग ही मौजूद रहेंगे।’
समिशा का अन्नप्राशन भी होगा
उन्होंने कहा, ‘हम इस बार सत्यनारायण पूजा करेंगे, सात्विक भोजन करेंगे, घर पर खाना बनाया जाएगा। 22 तारीख को मैं अपनी बेटी समिशा को अपना पहला ‘अनाज’ (ठोस) खिलाऊंगी। इसे ‘अन्नप्राशन’ कहा जाता है। भले ही यह कम महत्वपूर्ण हो, लेकिन फिर भी यह बहुत खास होगा।’
भगवान की कृपा सब पर बरसे
शिल्पा ने कहा, ‘मुझे लगता है कि इस महामारी ने हम सभी को बहुत सारी चीजों का एहसास कराया है, सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आवश्यकता और विलासिता के बीच का अंतर। इस स्वास्थ्य संकट को हल्के में नहीं लिया जा सकता है। इसलिए सामाजिक दूरी पालन करने के मानदंडों को समाप्त नहीं किया जाना चाहिए।’
आखिरी में उन्होंने कहा, ‘यहां उम्मीद है कि भगवान गणपति हम सभी पर अपनी कृपा बरसाएंगे और सभी चिंताओं को दूर करेंगे।’