रविवार को अपने मासिक रेडियो संबोधन मन की बात में मोदी ने कईं राज्यों के उदाहरणों को रेखांकित किया और साथ ही अपनी उपज को सीधे बाज़ार में बेचने की अनुमति देने के बाद किसानों को हुए फायदों का उदाहरण भी दिया।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को देशव्यापी विरोध प्रदर्शन के बाद कहा की सांसद के मानसून सत्र के दौरान केंद्र सरकार द्वारा पेश किए गए कृषि सुधार देश भर के किसानों को लाभान्वित कर रहे हैं और कृषि क्षेत्र का देश को आत्मनिर्भरता की ओर अग्रसर करने में महत्वपूर्ण योगदान है। विवादास्पद नए विधानों के खिलाफ किसान समूहों और विपक्षी नेताओं द्वारा देशव्यापी विरोध प्रदर्शन किए गए।

“ऐसा कहा जाता है कि जो ज़मीन पर टिका होता है, वह तूफानों के सबसे बड़े दौर में भी उतना ही दृढ़ होता है। कोरोना (महामारी) के इस कठिन दौर में, हमारा कृषि क्षेत्र, हमारे किसान इस बात का जीवंत प्रमाण हैं, ”मोदी ने यह भी कहा कि इस क्षेत्र को प्रतिबंधों से मुक्त कर दिया गया है।

“देश का कृषि क्षेत्र, हमारे किसान, हमारे गाँव आत्मनिर्भर भारत के आधार हैं। अगर वे मजबूत रहते हैं, तो आत्मनिर्भर भारत की नींव मजबूत रहेगी, ”पीएम ने सरकार की “आत्मनिर्भर भारत’ पहल का जिक्र करते हुए कहा।