कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली में हुए 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली को हर जगह से केंद्र सरकार की नाकामयाबी की खबर सुनने को मिल रही.आज सुप्रीम कोर्ट ने भी सरकार से सवाल पूछा की क्यों कुछ नहीं कर रही केंद्र सरकार ,कब तक ऐसे चलता रहेगा.इसके बाद बिहार के विपक्षी नेता भी केंद्र सरकार पर अपने हिसाब से हमला बोला.

इस कड़ी में भाजपा की चिर प्रतिध्वंधि ममता बनर्जी ने भी आड़े हाथों लिया और केंद्र सरकार तंज कसते कहा की दिल्ली की स्थिति को पुलिस संभाल नहीं पाई. अगर ये बंगाल में होता तो अमित भैया कहते- क्या हुआ. हम इसकी कड़ी निंदा करते हैं. हम चाहते हैं तीनों कृषि कानूनों को निरस्त किया जाए. या तो आप कानून वापस ले लें या फिर कुर्सी छोड़ दें.

ममता ने आगे कहा कि हम किसानों के साथ हैं और चाहते हैं कि ये कानून वापस हों. ये कानून जबरदस्ती पास करवाए गए हैं. मोदी सरकार ने दिल्ली में हुई हिंसा को बहुत खराब तरीके से हैंडल किया.वहां जो हुआ उसके लिए पूरी तरह से बीजेपी जिम्मेदार है. पहले दिल्ली को संभालो, फिर बंगाल के बारे में सोचो