दीग्राम में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) नेता प्रलय पाल ने शनिवार को एक सनसनीखेज दावा किया. प्रलय पाल का कहना है कि टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने उन्हें खुद फोन किया और तृणमूल को जीत दिलाने में मदद करने को कहा था, जहां से उनके पूर्व सहयोगी शुभेंदु अधिकारी मैदान में हैं.

नंदीग्राम में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी)  के नेता प्रलय पाल ने शनिवार को एक सनसनीखेज दावा किया. प्रलय पाल का कहना है कि टीएमसी सुप्रीमो ममता बनर्जी ने उन्हें खुद फोन किया और तृणमूल को जीत दिलाने में मदद करने को कहा था, जहां से उनके पूर्व सहयोगी शुभेंदु अधिकारी मैदान में हैं.

बीजेपी की तरफ से जारी एक वीडियो में प्रलय पाल का दावा है कि शनिवार सुबह ममता बनर्जी ने उन्हें फोन किया था और नंदीग्राम में टीएमसी के लिए मदद मांगी थी. वहीं टीएमसी का कहना है कि ऑडियो में सुनाई दे रही आवाज वैरिफाइड नहीं है. क्लिप वैरिफाइड नहीं है.  इस वीडियो को बीजेपी ने जारी किया है. आजतक इस वीडियो की प्रमाणिकता की पुष्टि नहीं करता है.

प्रलय पाल ने कहा, ‘वह चाहती थीं कि मैं उनके लिए काम करूं और टीएमसी में वापस आ जाऊं, लेकिन मैं लंबे समय से शुभेंदु अधकारी और अधिकारी परिवार के साथ जुड़ा हुआ हूं. मैं अब भारतीय जनता पार्टी के लिए काम कर रहा हूं.’ उन्होंने कहा, ‘लेफ्ट की सत्ता के दौरान जब माकपा का शासन था, अत्याचार से बचाने के लिए उस दौरान अधिकारी परिवार ही था जो नंदीग्राम की जनता के साथ खड़ा था. मैं कभी अधिकारी परिवार के खिलाफ नहीं गया और कभी मैं इसकी हिम्मत भी नहीं करूंगा.’

प्रलय पाल ने कहा कि उन्होंने ममता बनर्जी से कहा कि नंदीग्राम के स्थानीय लोगों को टीएमसी ने कभी उनका हक नहीं दिया है और वह बीजेपी की सेवा करते रहेंगे. प्रालय पाल ने आगे कहा कि वह सुनिश्चित करेंगे कि नंदिग्राम सीट पर शुभेंदु अधिकारी जीतेंगे.

वहीं बीजेपी नेता अमित मालवीय ने ट्वीट करते हुए कहा, “ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में बीजेपी के जिला उपाध्यक्ष प्रलय पाल को फोन किया और मदद की गुहार लगाई! प्रलय ने उन्हें बताया कि उन्हें टीएमसी में अपमानित किया गया था और वह अपने परिवार के साथ बीजेपी को धोखा नहीं दे सकते. निश्चित रूप से ममता और टीएमसी नंदीग्राम और बंगाल को हारने जा रही है.

टीएमसी प्रमुख और बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पूर्वी मेदिनीपुर जिले की हाई-प्रोफाइल नंदीग्राम सीट से विधानसभा चुनाव लड़ रही हैं और शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ चुनाव मैदान में हैं.