चुनावी राज्य पश्चिम बंगाल में भी कोरोना का कहर जारी है. इस बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और टीएमसी अध्यक्ष ममता बनर्जी ने चुनाव आयोग को निशाने पर लिया. उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग कोरोना फैलाने में शामिल सेंट्रल फोर्स को वापस बुलाए.

साथ ही उन्होंने कहा, ”मद्रास हाई कोर्ट का फैसला स्वागत योग्य है जिसमें कहा गया है कि निर्वाचन आयोग चुनाव के दौरान कोविड के मामले बढ़ने की जिम्मेदारी से नहीं बच सकता.”

मद्रास हाई कोर्ट ने सोमवार को निर्वाचन आयोग की तीखी आलोचना करते हुए देश में कोविड-19 की दूसरी लहर के कथित प्रकोप के लिये उसे ‘सबसे गैर जिम्मेदार संस्था’ करार दिया.

अदालत ने तीखी टिप्पणी करते हुए कहा कि निर्वाचन आयोग के अधिकारियों के खिलाफ हत्या के आरोपों में भी मामला दर्ज किया जा सकता है. मुख्य न्यायाधीश संजीव बनर्जी और न्यायमूर्ति सेंथिलकुमार राममूर्ति की पीठ ने एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए यह टिप्पणी की.

पश्चिम बंगाल में रविवार को रिकॉर्ड 15,889 नए कोरोना का मामलों की पुष्टि हुई थी और 57 मरीजों की मौत हुई थी. राज्य में अब तक 7,43,950 लोग संक्रमित हुए हैं और 10,941 मरीजों की मौत हुई है.

पश्चिम बंगाल में आज सातवें चरण के लिए वोट डाले जा रहे हैं. आठवें चरण के लिए 29 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे और वोटों की गिनती 2 मई को होगी.