चीन के वुहान शहर से निकले कोरोना वायरस से पूरी दुनिया अब तक छुटकारा नहीं पा पाई है कि अब एक और नई बीमारी दस्तक दे रही है। इस नई बीमारी को ब्रूसेलोसिस, माल्टा या फिर मेडिटरेनियन बुखार कहा जा रहा है। इस बीमारी से अब तक 3 हजार से ज्यादा लोग संक्रमित पाए गए हैं। बताया जा रहा है कि ये बीमारी वैक्सीन बनाने वाले सरकारी बायोफार्मासूटिकल प्लांट में लीक होने के बाद फैली है। गांसु प्रांत की राजधानी लान्चो के स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि करीब 30 लाख लोगों की आबादी वाले लांझू में 3,245 लोगों में ब्रूसेलोसिस (Brucellosis) बीमारी के लक्षण पाए गए हैं।

जानिए माल्टा बीमारी के लक्षण

स्वास्थ्य आयोग के अनुसार यह बीमारी पशुओं के संपर्क में आने के कारण होती है।
ये बीमारी इन्फेक्शन का शिकार हुए जानवरों या जानवरों के उत्पाद के इस्तेमाल से हो सकती है।
इस बीमारी के लक्षण सिरदर्द, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द बुखार और थकान जैसे कई लक्षण दिखाई देते हैं।
इन्फेक्शन से किसी की मौत नहीं हुई

इस बीमारी की वजह से अभी तक इस इन्फेक्शन से किसी की मौत नहीं हुई है और लगभग 22,000 लोगों की स्क्रीनिंग के बाद 1,401 लोगों में इस बीमारी का संक्रमण पाया गया है, जिनके टेस्ट पॉजिटिव आए हैं। चीनी स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि यह इन्फेक्शन इंसानों से इंसानों में नहीं फैल रहा है।

अमेरिका के सीडीसी ने कहा- लंबे वक्त तक रह सकते हैं कुछ लक्षण

अमेरिका के रोग नियंत्रण एवं निवारण केंद्र (CDC) के मुताबिक, इस बीमारी के होने पर मरीज में कुछ लक्षण लंबे वक्त के लिए रह सकते हैं जबकि कुछ ऐसे भी हो सकते हैं कि कभी पूरी तरह से जाएं ही ना, जैसे गठिया या किसी अंग में सूजन आदि। चीनी प्रशासन ने पाया है कि बायोफार्मासूटिकल प्लांट ने एक्सपायर हो चुके डिसइन्फेक्टेंट का इस्तेमाल किया था। बता दें कि, ब्रुसेलोसिस चीन में 1980 के दशक में एक आम बीमारी थी, हालांकि बाद में इसमें गिरावट आई थी। CDC के मुताबिक यह बीमारी कोविड की तरह नहीं है। एक मनुष्य से किसी दूसरे व्यक्ति में ट्रांसफर नहीं होती। इस बीमारी की चपेट में ज्यादातर वो लोग आते हैं जो दूषित भोजन खाते हैं या सांस लेने के दौरान बैक्टीरिया से संक्रमित होते हैं।