जन्मदिन की खुशियां परिवार संग मनाने की बजाए डॉ. प्रतीक ने कोरोना योद्धा की भूमिका निभाते हुए करियां में क्वारंटीन केंद्र में रखे लोगों के सैंपल एकत्रित कर ड्यूटी निभाई। शुक्रवार को डॉ. प्रतीक का जन्मदिन था। फेसबुक और व्हाट्सऐप पर उनके प्रशंसक, दोस्त और रिश्तेदार बधाई दे रहे थे।

वे बधाइयों का जवाब देने की बजाए क्वारंटीन केंद्रो में रखे लोगों में कोरोना की जांच करने के लिए सैंपल लेने में व्यस्त रहे। सैंपल प्रक्रिया को पूरा करने के बाद जब उन्हें फुरसत मिली तो उन्होंने अपनी फेसबुक आईडी खोलकर अपने जन्मदिन की बधाई का जवाब दिया।
डॉ. प्रतीक पिछले तीन महीनों से कोरोना महामारी से जारी जंग में अपनी सेवाएं दे रहे हैं। वे अकेले ही अब तक एक हजार सैंपल एकत्रित कर चुके हैं। उन्हें सैंपल लेने के लिए जहां पर भी विभाग की ओर से ऑर्डर होते हैं। वह अपनी टीम के साथ वहां पहुंच जाते हैं।
शुक्रवार को सुबह के समय जब वे अपने घर पर परिवार संग जन्मदिन मनाने की चर्चा कर रहे थे। उसी दौरान उन्हें बताया गया कि करियां में जाकर उन्हें क्वारंटीन केंद्र में रखे लोगों के सैंपल एकत्रित करने हैं। वे पूरी तैयारियों के साथ सैंपल एकत्रित करने के लिए करियां पहुंच गए।