किसान आंदोलन का चेहरा और भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने विरोधियों द्वारा उनकी संपत्ति को लेकर उठाए जा रहे सवालों का जवाब दिया. विरोधियों का कहना है कि टिकैत के पास करोड़ों की संपत्ति और मॉल है. किसान नेता टिकैत ने विरोधियों पर तंज कसते हुए एनडीटीवी से बातचीत में कहा कि कम आकलन किया है ज्यादा करना चाहिए. बहुत संपत्ति है हमारे पास. हमें भी नहीं पता है कितनी है. कई हजार करोड़ की होगी. कई पटवारी, अधिकारी और सरकार लगानी पड़ेगी तब जांच होगी.

कृषि कानूनों के खिलाफ समर्थन जुटाने के लिए किसान नेता महापंचायत कर रहे हैं. पंचायत में पहले की तुलना में लोगों की संख्या कम होने के सवाल पर टिकैत ने कहा कि आंदोलन चलता रहेगा. आंदोलन संख्या पर नहीं चलता. किसान खेत में काम भी करेगा और आंदोलन एवं पंचायत में भी रहेगा.

किसान नेताओं के बीच दरार की खबरों पर राकेश टिकैत ने कहा कि विरोधियों को कुछ नहीं मिला तो अब 40 किसान नेताओं में दरार डालने की कोशिश कर रहे हैं. नेताओं पर संपत्ति का आरोप लगाया जा रहा है. प्रॉपर्टी का मामला ये 5 दिन चला चुके हैं. ये भी चला चुके कि सारे किसानों की संपत्ति हमारी है, जो हमें पेट्रोल पंप हम फ्री में पेट्रोल देते हैं, वो हमारे हैं. सब किसान नेता एक हैं.