एक्ट्रेस जैकलीन फर्नांडीज ने महाराष्ट्र के पथराड़ी और सकुर गांवों के ग्रामीणों के पोषण हेतु ‘एक्शन अगेंस्ट हंगर फाउंडेशन’ के साथ भागीदारी की है। इससे पहले भी, महामारी के प्रारंभिक चरण के दौरान कुपोषण के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए उन्होंने इस फाउंडेशन के साथ मिलकर काम किया था।

जैकलिन ने अपने पालघर प्रोजेक्ट के लिए उनके साथ भागीदारी की है, जिसका लक्ष्य कुपोषण को पूरी तरह से खत्म करना है। हालांकि ये लंबे समय तक चलने वाली प्रक्रिया है जिसमें समय लगेगा और सही कदम व उपायों के साथ ही इसे प्राप्त किया जा सकता है और इसके लिए जैकलीन हर संभव कोशिश कर रहीं है।

जैकलीन ने नहीं अपनाया शॉर्ट टर्म उपाय

कोरोना महामारी के दौरान गांवों में हालात काफी खराब हो गए हैं, जिसके बाद हर कोई अपनी तरफ से ग्रामीणों की मदद की कोशिश कर रहा है। लेकिन जैकलीन ने शॉर्ट टर्म सॉल्यूशन देने के बजाय गांवों को गोद ले लिया है और यह सुनिश्चित करने की योजना बनाई है कि वे हमेशा मुस्कुराते रहें और उन्हें कभी भी भूखमरी से ना गुजरना पड़े।

महिलाओं को बच्चों की देखभाल की ट्रेनिंग दी जाएगी

इस साझेदारी के तहत 1550 लोगों को खाना खिलाया जाएगा, जिससे उन्हें अगले तीन सालों के लिए सभी आवश्यक पोषण मिल सकेगा। इसके लिए विभिन्न समूह सत्र भी आयोजित किए जाएंगे जो पोषण पर केंद्रित होंगे। योजना के तहत महिलाओं को भी ये बताया जाएगा कि जन्म के बाद बच्चों की देखभाल कैसे करनी है, साथ ही 6 साल से कम उम्र के बच्चों की MUAC टेप के तहत कुपोषण के लिए जांच भी की जाएगी।

कोशिश रहेगी कि कोई भी कुपोषित ना रहे

सात फ्रंटलाइन श्रमिकों को प्रशिक्षण और नौकरी के दौरान भी सहायता प्रदान की जाएगी। इसके साथ ही, गांव में किचन गार्डन भी बनाए जाएंगे। यह सब सुनिश्चित किया जाएगा कि सभी सुरक्षा दिशानिर्देशों का पालन किया जाए और कोई भी भुखमरी या पोषण की कमी से पीड़ित न हो।

सोशल मीडिया के जरिए जैकलीन को शुक्रिया कहा

एक्शन अगेंस्ट हंगर ने जैकलीन की इस पहल के बारे में अपने सोशल मीडिया पर भी जानकारी शेयर की है। जिसके साथ उन्होंने लिखा है, ‘आपके सहयोग के लिए जैकलीन फर्नांडीस आपका धन्यवाद और परिवार में आपका स्वागत है। इस मुश्किल समय में हमें एक साथ मिलकर काम करने और जिंदगियों में बदलाव के लिए मदद करने की जरूरत है।’