कोरोना वायरस से संक्रमण को लेकर एक बात तो पूरी तरह साफ हो चुकी है कि कोविड-19 सिर्फ एक फ्लू की तरह आकर नहीं चला जाता है। यह इंसान के शरीर को कई तरीकों से बीमार बना देता है। इस कारण बीमारी के ठीक होने के बाद भी इस संक्रमण का शिकार हुआ व्यक्ति किसी दूसरी गंभीर बीमारी का मरीज बन जाता है। इस बात की पुष्टि अब देश में लगातार बढ़ रहे ऐसे केस कर रहे हैं, जिनमें कोरोना से संक्रमण के बाद ठीक हुए व्यक्ति हार्ट से जुड़ी समस्याओं को लेकर हॉस्पिटल पहुंच रहे हैं…कोरोना संक्रमण के शुरुआती दौर में ही जो केसेज सामने आ रहे थे उस दौरान संक्रमण से ठीक होने के बाद जिस तरह की समस्याएं लोगों को हो रही थीं, उनके आधार पर हेल्थ एक्सपर्ट्स ने महीनों पहले ही चेतावनी जारी कर दी थी कि जितना हो सके इस संक्रमण से खुद को बचा लें। क्योंकि जितना खतरनाक यह संक्रमण खुद है, ठीक होने के बाद भी शरीर के लिए उतने ही खतरे खड़े कर देता है।

कोरोना संक्रमण ठीक होने के बाद भी व्यक्ति के शरीर में कौन-सी नई बीमारी आ जाए इस बारे में अभी निश्चित रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता है। संक्रमण के दौरान कोरोना श्वसन तंत्र (रेस्पोरेट्री ट्रैक्ट) और फेफड़ों को सबसे अधिक नुकसान पहुंचाता है।

-लेकिन इस बीमारी का संक्रमण ठीक होने के बाद व्यक्ति को हार्ट, किडनी या लिवर से संबंधित बीमारियां देखने को मिल रही हैं। अब सवाल यह उठता है कि हम ऐसा क्या करें कि इन बीमारियों से बचा जा सके। क्योंकि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए तो अपने-अपने स्तर पर हर व्यक्ति प्रयास कर ही रहा है। लेकिन अगर फिर भी यह संक्रमण हो जाए तो इन गंभीर बीमारियों से बचने के लिए क्या करना चाहिए…