आईसीआईसीआई बैंक को वित्त वर्ष 2020-21 की आखिरी तिमाही के दौरान शुद्ध मुनाफे में 261 फीसदी का भारी-भरकम मुनाफा हुआ है. इस दौरान बैंक का शुद्ध मुनाफा बढ़  कर  4,402 करोड़ रुपये पहुंच  गया. दरअसल बैंक की ब्याज आय में अच्छी-खासी बढ़ोतरी और प्रोविजिनिंग में कमी की वजह से शुद्ध मुनाफे में यह जबरदस्त बढ़ोतरी दर्ज की गई है.

ब्याज आय में बढ़ोतरी 

इसके पिछले वित्त वर्ष  (2019-200 ) की  चौथी तिमाही की तुलना में  परिचालन मुनाफे में 15.6 फीसदी की बढ़ोतरी हुई थी .इस दौरान यह बढ़ कर 8540 करोड़ रुपये  पर पहुंच गया. इस दौरान इसकी पिछली अवधि की तुलन में ब्याज आय भी 5.24 फीसदी भी बढ़ गई . पिछले साल की समान अवधि की तुलना में यह 10,431 करोड़ रुपये हो गया.  इस दौरान बैंक ने अपनी प्रोविजिनिंग घटाई है और ये घट कर 2,883 करोड़ रुपये हो गई. हालांकि बैंक ने मार्च तिमाही में 1000 करोड़ रुपये से अधिक की प्रोविजिनिंग कोविड के मद में की है. मार्च 2021 तक प्रोविजिनिंग कवरेज रेश्यो 77.7 फीसदी तक पहुंच गया.

एनपीए में भी गिरावट 

बैंक का कुल एनपीए मार्च 2021 के अंत में कुल एडवांस के मुकाबले घटकर 4.96 फीसदी रह गया, जो 31 मार्च 2020 को 5.53 फीसदी था.इसी तरह शुद्ध एनपीए भी 1.41 फीसदी से घटकर 1.14 फीसदी पर आ गया. इस तिमाही में बैंक को एनपीए के लिए 2883.47 करोड़ रुपये का प्रावधान करना पड़ा . पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में इस मद में प्रावधान 5,967.44 करोड़ रुपये का था.