महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने इस्तीफा दे दिया है. देशमुख मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को अपना इस्तीफा सौंपने गए हैं. अनिल देशमुख राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के कोटे से गृह मंत्री थे. देशमुख ने राज्यपाल के बजाय मुख्यमंत्री को अपना इस्तीफा देंगे.

बता दें कि आज ही बॉम्बे हाईकोर्ट ने सीबीआई जांच के आदेश दिए हैं. यह फैसला हाई कोर्ट ने मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह की जनहित याचिका पर दिया है. परमबीर सिंह ने अनिल देशमुख पर वसूली के लिए टारगेट देने का आरोप लगाया था और इसी संबंध में सीबीआई जांच की मांग की थी.

परमबीर सिंह के आरोपों के बाद से ही अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग उठ रही थी. अब हाई कोर्ट के फैसले के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया है.

एंटीलिया केस और सचिन वाजे मामले में सरकार की अपेक्षा के अनुरूप नहीं निपटने के बाद परमबीर सिंह को 17 मार्च मुंबई पुलिस कमिश्नर पद से हटा दिया गया था. पद से हटाए जाने के बाद परमबीर सिंह ने 20 मार्च को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को चिट्ठी लिखी थी.

इस चिट्ठी में उन्होंने कहा था कि महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने पुलिस अधिकारी सचिन वाजे को बार और रेस्तरां से 100 करोड़ रुपए जुटाने को कहा था.

उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास एंटीलिया के पास 25 फरवरी को एक संदिग्ध कार मिली थी. इसमें  जिलेटिन की 20 छड़ें बरामद हुई थीं. इस मामले की जांच शुरुआत में मुंबई पुलिस कर रही थी. इस मामले की जांच एनआईए कर रही है. एनआईए ने 13 मार्च को सचिन वाजे को गिरफ्तार किया था.