26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड के दौरान किसान नवरीत की मौत की जांच के लिए दायर याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) में गुरुवार को सुनवाई हुई.जस्टिस योगेश खन्ना की बेंच में इस मामले पर बहस हुई. अदालत ने कहा कि अब 26 फरवरी को इस मामले में अगली सुनवाई होगी. साथ ही हाईकोर्ट ने दिल्ली पुलिस से स्टेटस रिपोर्ट भी मांगी है. कृषि कानून के विरोध में गणतंत्र दिवस पर निकाली गई ट्रैक्टर परेड के दौरान आइटीओ (ITO) पर ट्रैक्टर पलटने से नवरीत सिंह की मौत हो गयी थी.उत्तर प्रदेश के रामपुर जिले के रहने वाले नवरीत के दादा हरदीप सिंह ने दिल्ली हाई कोर्ट में याचिका दायर कर मांग की थी कि अदालत एसआइटी का गठन करने का निर्देश दे, जो इस मामले की तय सीमा में निष्पक्ष जांच करे.

दिल्ली पुलिस के लिए पेश हुए वकील राहुल मेहरा ने अदालत में कहा कि हमको दस्तावेज और सीसीटीवी फुटेज को साझा करने में कोई परेशानी नहीं है. साथ ही उन्होंने डिटेल स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करने के लिए अदालत से समय मांगा. उन्होंने अदालत में कहा कि ये दुर्भाग्यपूर्ण घटना है. मेरे पास अभी स्टेटस रिपोर्ट नहीं है.सीसीटीवी फुटेज का परीक्षण किया जा रहा है. इस संबंध में एक सामान्य FIR दर्ज हुई है जिसमें और पहलुओं पर भी जांच हो रही है.हमें निर्देश मिला है कि ये मामला यूपी पुलिस के पास था. पोस्टमार्टम और एक्स रे रामपुर में हुआ था.

याचिकाकर्ता 65 साल के नवरीत के दादा हैं, जो लगातार दिल्ली पुलिस पर सवाल उठाते रहे हैं. उन्होंने एसआईटी से इस मामले की जांच करवाने की मांग की है. वहीं दिल्ली पुलिस का कहना है कि नवरीत की मौत ट्रैक्टर पलटने से हुई है, जबकि नवरीत के दादा का आरोप है कि उनके पोते की मौत गोली लगने से हुई थी.