एक स्टडी के मुताबिक, लंबे समय तक डेस्क वर्क से मोटापा, हाइपरटेंशन, डायबिटीज, कॉलेस्ट्रोल और ऑस्टियेपरोसिस जैसी बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है।
डेस्क जॉब में घंटों तक लगातार एक ही जगह बैठकर काम करना हमारी सेहत के लिए सही नहीं है।
एक्सपर्ट कहते हैं कि कुछ खास बातों का ध्यान रखकर इन बीमारियों का जोखिम कम किया जा सकता है।

खाने में सिर्फ हेल्दी चीजें खाने की आदत डालें. अपनी डाइट में प्रोटीन, नैचुरल फैट और बॉडी को एनेर्जी देने वाले कार्बोहाइड्रेट की चीजों को शामिल करें. इसके अलावा हरी पत्तेदार सब्जियां और फाइबर वाले फ्रूट भी रोजाना नियमित रूप से खाएं।

अपने स्लीपिंग पैटर्न का ध्यान रखना भी जरूरी है. रोजाना करीब 6-8 घंटे की पर्याप्त नींद लें. इसके अलावा बॉडी को हाइड्रेट रखने के लिए खूब पानी पीएं. सर्दी के मौसम में वैसे भी डीहाइड्रेशन का खतरा काफी बढ़ जाता है. ये दोनों ही चीजें हमारी बॉडी की सही फंक्शनिंग के लिए बहुत जरूरी है।

8-9 घंटे की लंबी शिफ्ट करने के बाद हमारी फिजिकल एक्टिविटी शून्य हो जाती है, जिससे दिल की सेहत पर बुरा असर पड़ता है. रोजाना करीब एक घंटा लो इंटेंसिटी कार्डियोवस्क्युलर ट्रेनिंग करें. लिफ्ट की बजाए सीढ़ियों का इस्तेमाल करें. आस-पास किसी काम से जाने के लिए वाहन की बजाए पैदल चलने की आदत डालें।

काम करते वक्त अपने सिटिंग पोश्चर पर भी ध्यान दें. कुर्सी पर बैठते वक्त रीढ़ की हड्डी सीधी होनी चाहिए और कंधे पीछे की तरफ उठे होने चाहिए. साथ ही जमीन पर पंजा पूरा लगना चाहिए. अगर आप ऐसा नहीं कर पा रहे हैं तो पैरों के नीचे किसी छोटे स्टूल का सहारा भी ले सकते हैं. आपके कूल्हे, घुटने और टखने 90 डिग्री एंगल पर होने चाहिए।